123 जगहों पर टीकाकरण नहीं होने पर डीएम ने जताई नाराजगी, दिए कड़े निर्देश

123 जगहों पर टीकाकरण नहीं होने पर डीएम ने जताई नाराजगी, दिए कड़े निर्देश


123 जगहों पर टीकाकरण नहीं होने पर डीएम ने जताई नाराजगी, दिए कड़े निर्देश


बेगूसराय, 24 नवम्बर (हि.स.)। बच्चों को स्वस्थ रखने के लिए गांव में होने वाले महत्वपूर्ण टीकाकरण अभियान का भी बेगूसराय स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी और कर्मी मजाक उड़ा रहे हैं। अप्रैल से अक्टूबर तक विभिन्न प्रखंडों में 123 स्थानों पर टीकाकरण सत्र का संचालन नहीं किया गया। इस पर नाराजगी जताते हुए संबंधित पदाधिकारियों को भविष्य में सुधार लाने का निर्देश दिया है।

डीएम रोशन कुशवाहा की अध्यक्षता में गुरुवार को जिला टास्क फोर्स सहित स्वास्थ्य विभाग द्वारा क्रियान्वित विभिन्न योजनाओं और कार्यक्रमों की समीक्षा के दौरान कड़ी नाराजगी जताई गई है। डीएम ने सबसे पहले नियमित टीकाकरण एवं सर्विलांस के सुदृढ़ीकरण से संबंधित मामलों की अद्यतन स्थिति की जानकारी प्राप्त की तथा सभी प्राथमिक चिकित्सा पदाधिकारियों को नियमित टीकाकरण के आच्छादन में अपेक्षित सुधार एवं सत्र संचालन में गुणात्मक सुधार लाने का निर्देश दिया।

उन्होंने सत्र संचालन अवधि में सत्र स्थल पर एएनएम की ससमय उपस्थिति के साथ ही सर्वे पंजी, ड्यु लिस्ट, हब कटर, आरसीएच रजिस्टर आदि की उपलब्धता सुनिश्चित करने का निर्देश दिया। 123 स्थलों पर सत्र संचालन नहीं होने तथा मटिहानी, तेघड़ा एवं डंडारी प्रखंडों में खराब प्रदर्शन पर उन्होंने नाराजगी व्यक्त की। डीएम ने सभी प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारियों को नियमित टीकाकरण की गहन समीक्षा करने तथा सर्वे पंजी एवं ड्यु लिस्ट आदि से संबंधित सभी लंबित कार्यों को पूरा करने का निर्देश दिया।

बैठक के दौरान फुल इम्यूनाइजेशन एवं कम्पलिट इम्यूनाइजेशन की उपलब्धियों की समीक्षा की गई तथा फुल इम्यूनाइजेशन में तेघड़ा, शाम्हो एवं बेगूसराय सदर प्रखंड के खराब प्रदर्शन पर नाराजगी व्यक्त करने के साथ ही कम्पलिट इम्यूनाइजेशन की वर्तमान उपलब्धि 72 प्रतिशत में वृद्धि करते हुए कम-से-कम 95 प्रतिशत तक करने का निर्देश दिया गया। ड्रॉप-आउट से संबंधित विषयों की समीक्षा के दौरान बीसीजी सेएमसीवी-1, पेन्टा-1 से पेन्टा-3, एमसीवी-1 से एमसीवी-2 तथा बीसीजी से पेन्टा- 1 टीकाकरण में ड्रॉप आउट में अपेक्षित सुधार लाने का निर्देश दिया गया।

डीएम ने सितम्बर में टेली कंस्लटेशन के माध्यम से दिए जाने वाले सेवाओं के खराब प्रदर्शन पर भी नाराजगी व्यक्त की तथा राज्य सरकार के इस महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट में प्रगति लाने का निर्देश दिया। उन्होंने टेली कंस्लटेशन के लिए प्रतिनियुक्त चिकित्सा पदाधिकारियों का निर्धारित तिथि एवं अवधि में उपलब्धता सुनिश्चित करते हुए निर्धारित लक्ष्य हासिल करने का निर्देश दिया।

टेलीमेडिसीन सुविधा को महत्वपूर्ण पहल बताते हुए चिन्हित हब एवं स्पोक्स की शत-प्रतिशत क्षमता का उपयोग सुनिश्चित करते हुए अधिकाधिक लोगों को आवश्यक चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने का निर्देश दिया गया। बैठक के दौरान विभिन्न अवयवों में अधिकांश प्रखंडों में शून्य व्यय उपलब्धि को खेदजनक बताते हुए अगली बैठक से पहले सितम्बर तक की भौतिक उपलब्धि के आलोक में तुलनात्मक रूप से शत-प्रतिशत व्यय करने, अन्यथा संबंधित प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारियों के विरुद्ध कार्रवाई की बातें कही गई है।

बैठक के दौरान एएनसी निबंधन, 180 आईएफए एवं 360 कैल्सियम टेबलेट वितरण, संस्थागत प्रसव, नौ से 11 माह के शिशु का टीकाकरण, औषधि की उपलब्धता एवं वितरण, अनीमिया मुक्त भारत, फाइलेरिया नियंत्रण, आयुष्मान कार्ड निर्माण के साथ-साथ वेक्टर बॉर्ने डिजीज कंट्रोल प्रोग्राम के तहत विभिन्न बीमारियों के सेवाओं एवं अद्यतन आंकड़ों की समीक्षा कर आवश्यक निर्देश दिए गए।

हिन्दुस्थान समाचार/सुरेन्द्र

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story