सेटेलाइट की तुलना में पहले उष्णकटिबंधीय चक्रवातों का पता लगा सकती है नई तकनीक

dvsdv
नई दिल्ली। भारतीय वैज्ञानिकों ने उत्तरी हिंद महासागर क्षेत्र में समुद्र की सतह पर सेटेलाइट के पता लगाने से पहले वायुमंडलीय स्तंभ में उष्णकटिबंधीय चक्रवातों के विकास या मजबूती के लिए एक नई तकनीक खोज निकाली है।

अब तक, सुदूर संवेदन तकनीकों के जरिये चक्रवातों के विकास को पहचाना जाता है। हालाँकि, यह पता लगाना तभी संभव है जब सिस्टम गर्म समुद्र की सतह पर एक अच्छी तरह से चिह्न्ति कम दबाव प्रणाली के रूप में विकसित हो।

यह अध्ययन चार मानसून के बाद के गंभीर चक्रवातों, फैलिन (2013), वरदा (2013), गाजा (2018), माडी (2013), और दो प्री मानसून चक्रवात मोरा (2017) और आइला (2009) के मामलों के साथ किया गया था। जो उत्तरी हिंद महासागर क्षेत्र में विकसित हुआ है।

उष्णकटिबंधीय चक्रवातों का शीघ्र पता लगाने के व्यापक सामाजिक आर्थिक निहितार्थ हैं। चक्रवात का पता लगाने और उसके प्रभाव के बीच एक बड़ा समय अंतराल तैयारी गतिविधियों में मदद कर सकता है।

गर्म महासागरीय वातावरण पर चक्रवाती तंत्र के निर्माण से पहले, प्रारंभिक वायुमंडलीय अस्थिरता तंत्र, साथ ही भंवर विकास, उच्च वायुमंडलीय स्तरों पर शुरू होता है।

विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने बुधवार को कहा कि ये चक्रवाती एडीज ऊध्र्वाधर वायुमंडलीय स्तंभ में प्रमुख विशेषताएं हैं, जो गर्म समुद्र की सतह पर एक अच्छी तरह से चिह्न्ति चक्रवाती अवसाद को प्रेरित करने और विकसित करने की क्षमता के साथ अशांति के वातावरण को शामिल करते हैं।

उनका उपयोग चक्रवातों की भविष्यवाणी का पता लगाने के लिए किया जा सकता है।

जलवायु परिवर्तन कार्यक्रम (सीसीपी) के तहत भारत सरकार के विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग के सहयोग से आईआईटी खड़गपुर के जिया अल्बर्ट, बिष्णुप्रिया साहू और प्रसाद के. भास्करन सहित वैज्ञानिकों की एक टीम ने एडी डिटेक्शन तकनीक का उपयोग करके उत्तर हिंद महासागर क्षेत्र में उष्णकटिबंधीय साइक्लोजेनेसिस के प्रारंभिक चरणों और अग्रिम पता लगाने के समय की जांच करने के लिए नई विधि तैयार की है।

यह शोध हाल ही में एटमॉस्फेरिक रिसर्च जर्नल में प्रकाशित हुआ है।

अध्ययन ने गैर विकासशील मामलों के लिए वायुमंडलीय कॉलम में एडी के व्यवहार पर एक व्यापक जांच की।

इस तकनीक में समुद्र की सतह पर उपग्रह का पता लगाने से पहले वायुमंडलीय स्तंभ में उष्णकटिबंधीय साइक्लोजेनेसिस का शीघ्र पता लगाने की क्षमता पाई गई है।

--आईएएनएस

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक  करें।

Share this story