पटना के आईजीआईएमएस में कोविड मरीजों के लिए 150, पीएमसीएच में 108 बेड उपलब्ध

पटना के आईजीआईएमएस में कोविड मरीजों के लिए 150, पीएमसीएच में 108 बेड उपलब्ध
पटना। कोविड-19 महामारी से जूझ रहे बिहार के अस्पतालों में बेडों की उपलब्धता के दावे और राज्य सरकार द्वारा घोषित सुविधाएं सच्चाई से बहुत दूर हैं।

बिहार सरकार ने हाल ही में इंदिरा गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान (आईजीआईएमएस), पटना को 500 बेड वाला कोविड-समर्पित अस्पताल घोषित किया है। इसके अलावा, पटना के 1,200 बिस्तरों वाले पटना मेडिकल कॉलेज अस्पताल (पीएमसीएच) में 75 फीसदी बेड को कोविड-19 मरीजों के लिए आरक्षित किया जाना है।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने 27 अप्रैल को आईजीआईएमएस को कोविड-समर्पित अस्पताल घोषित किया था। उनकी घोषणा के बाद, स्वास्थ्य विभाग ने आईजीआईएमएस को एक समर्पित कोविड अस्पताल में बदल दिया। अब यह पाया गया है कि यहां कोविड-19 संक्रमित रोगियों के लिए सिर्फ 150 बेड उपलब्ध हैं।

आईजीआईएमएस के एक वरिष्ठ चिकित्सक के अनुसार, राज्य सरकार ने 500 बिस्तरों के समर्पित कोविड अस्पताल की घोषणा की है, लेकिन बाकी 350 बिस्तरों के लिए ऑक्सीजन पाइपलाइन की कनेक्टिविटी जरूरी दवाइयों और अन्य उपकरण उपलब्ध नहीं हैं।

अस्पताल के चिकित्सा अधिकारी ने कहा, यही वजह है कि हमने अस्पताल में केवल 150 रोगियों को भर्ती किया है। इसके अलावा, अस्पताल प्रशासन ऑक्सीजन, जीवन रक्षक दवाओं आदि की व्यवस्था करने के लिए संघर्ष कर रहा है। सुविधाओं के अभाव में, हम नए कोविड-19 रोगियों को भर्ती लेने से इनकार कर रहे हैं।

उन्होंने कहा, आईजीआईएमएस पटना में एक प्रतिष्ठित चिकित्सा संस्थान है, जहां राज्य सरकार ने कोविड रोगियों के लिए 50 वेंटिलेटर की सुविधा दी है। वेंटिलेटर के संचालन के लिए आवश्यक आवश्यक उपकरण और ऑक्सीजन और अन्य चिकित्सा भागों जैसे चिकित्सा सुविधाओं की कमी के कारण यह चालू नहीं है।

नीतीश कुमार ने घोषणा की कि पीएमसीएच में 1,200 बेडों में से 75 प्रतिशत कोविड-संक्रमित रोगियों के लिए आरक्षित होंगे, लेकिन कोविड के मरीज केवल 108 बिस्तरों पर हैं। अस्पताल प्रशासन नए रोगियों को बेड की पेशकश कर रहा है, क्योंकि पुराने रोगियों की या तो मौत हो गई है या उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है।

--आईएएनएस

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये यहां क्लिक करें।

Share this story