गर्मियों की छुट्टियों में ले जाना हैं बच्चों को घुमाने, महाराष्ट्र के ये राष्ट्रीय उद्यान रहेंगे बेस्ट ऑप्शन 

m

गर्मियों की छुट्टियां जारी हैं जिसमें बच्चे अपनी दादी-नानी के घर जाना पसंद करते हैं। इसी के साथ ही यही समय होता हैं जब पेरेंट्स अपने बच्चों को लेकर घूमने जा सकते हैं। यदि आप इन गर्मियों की छुट्टियों में कहीं घूमने की योजना बना रहे हैं और यदि आपको वाइल्ड लाइफ देखने का शौक है तो आप अपने बच्चों को महाराष्ट्र के राष्ट्रीय उद्यान में लेकर जा सकते हैं जहां आपको प्राकृतिक सुंदरता के साथ कई वन्यजीव भी देखने को मिलेंगे। महाराष्ट्र के राष्ट्रीय उद्यान क्षेत्र की समृद्ध जैव विविधता का प्रदर्शन करते हैं। आज इस कड़ी में हम आपको महाराष्ट्र के कुछ प्रमुख राष्ट्रीय उद्यानों के बारे में बताने जा रहे हैं जो पर्यटकों और वन्यजीव प्रेमियों के लिए आकर्षण का केंद्र बने हुए है। आइये जानते हैं इनके बारे में...

n
ताडोबा राष्ट्रीय उद्यान

अपनी प्राकृतिक विरासत के लिए जाने जाना वाला ताडोबा राष्ट्रीय उद्यान भारत के सबसे रोमांचक और सर्वश्रेष्ठ संरक्षित टाइगर रिजर्व में से एक है। जिसमें महाराष्ट्र राज्य में सबसे अधिक बाघ दिखाई देते हैं। चंद्रपुर जिले में स्थित ताडोबा राष्ट्रीय उद्यान महाराष्ट्र का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यह स्थान वन्यजीवों और प्रकृति प्रेमियों किये वीकेंड पर जाने के लिए एक आदर्श पर्यटन स्थल है। जहाँ आप वनस्पतियों और जीवों की दुर्लभ प्रजातियों को देख सकते है। और साथ यह राष्ट्रीय उद्यान ताडोबा झील, ईराई बांध, मोहरली और खोसला गाँव के लिए भी प्रसिद्ध है।

n
चंदोली राष्ट्रीय उद्यान

चंदोली राष्ट्रीय उद्यान को वन्यजीवों और प्रकृति प्रेमियों के लिए महाराष्ट्र के सबसे आकर्षक राष्ट्रीय उद्यानों में से एक माना जाता है। यह पार्क विभिन्न प्रकार के जानवरों का प्रजनन स्थल है जिसमें शक्तिशाली बंगाल टाइगर, सांभर और हिरण शामिल है। उद्यान की हरियाली आपका मन मोह लेती है। यदि आप वास्तव में एडवेंचर प्रेमी हैं तो आपको इस पार्क में जरूर जाना चाहिए। आप यहां कई रोमांचक गतिविधियों में भाग ले सकते हैं जैसे बर्डवॉचिंग सत्र, नौका विहार, सफारी सवारी, ट्रेकिंग और बहुत कुछ। इसके अलावा आप यहां कंधार दोह और कंधार दोह जलप्रपात, तेनाली जलप्रपात, चंदोली बांध, वसंत नगर जलाशय और कोकण दर्शन का भी आनंद ले सकते हैं।

m
गुगामल राष्ट्रीय उद्यान

गुगामल राष्ट्रीय उद्यान एक रमणीय वन्यजीव अभ्यारण्य है जो आपको विभिन्न प्रकार के विशिष्ट जानवरों और पक्षियों जैसे बाघ, मगरमच्छ, बाइसन, गवा, नीलगाय और जंगली हिरण को देखने के बहुत सारे अवसर प्रदान करेगा। साथ ही, पार्क विभिन्न प्रकार की वनस्पतियों और जीवों की देखभाल करता है और अपनी विशिष्ट संस्कृति के लिए प्रसिद्ध है। यहां ट्रेकिंग, फोटो क्लिकिंग, बर्ड वाचिंग सेशन और सफारी राइड जैसी कई मनोरंजक गतिविधियों में भाग लिया जा सकता है।

m

संजय गांधी राष्ट्रीय उद्यान

के रूप में भी जाना जाता है बोरीवली नेशनल पार्क, संजय गांधी राष्ट्रीय उद्यान मुंबई के उत्तरी क्षेत्र में स्थित है, महाराष्ट्र। यह पार्क 104 वर्ग किमी के क्षेत्र में फैला हुआ है। शहर से घिरे बहुत कम पार्कों में से एक के रूप में जाना जाने वाला यह पार्क पूरी दुनिया के सबसे ज्यादा देखे जाने वाले पार्कों में से एक है। यह पार्क कान्हेरी गुफाओं का भी घर है जो लगभग 2400 साल पुरानी हैं और चट्टानों से निकली हुई हैं। गुफाओं को धार्मिक स्थल के साथ-साथ तीर्थस्थल के महत्वपूर्ण बौद्ध केंद्र भी कहा जाता है। पार्क में एक हजार से अधिक पौधों की प्रजातियाँ और 250 प्रकार के प्रवासी पक्षी है। यहाँ पाए जाने वाले जानवरों में से एक चित्तीदार हिरण है जिसे पार्क से बहने वाली धारा से पानी पीते देखा जा सकता है। पार्क के अंदर तुलसी झील में मगरमच्छ के साथ-साथ अजगर, छिपकली और वाइपर भी हैं।

m
नवेगांव राष्ट्रीय उद्यान

महाराष्ट्र के गोंदिया जिले में स्थित नवेगांव राष्ट्रीय उद्यान महाराष्ट्र के सबसे प्रसिद्ध राष्ट्रीय उद्यानों में से एक है। जो नवेगांव की हरी-भरी पहाड़ियों में स्थित है, जहाँ आपको प्राकृतिक वन्यजीवों के लुभावने दृश्य देखने को मिलते हैं। 1800 के दशक में निर्मित, इस पार्क में एक शांत झील और इसके निकट एक प्रहरीदुर्ग भी है। इस पार्क में एक पक्षी अभयारण्य, एक हिरण पार्क, और तीन प्यारे उद्यान भी मौजूद है जो नवेगांव राष्ट्रीय उद्यान के आकर्षण को बढ़ा रहे है। आपकी जानकारी के लिए बता दे इस पार्क में स्थित एक पक्षी अभयारण्य को सलीम अली पक्षी अभयारण्य के रूप में जाना जाता है।

m

पेंच राष्ट्रीय उद्यान

पेंच नेशनल पार्क महाराष्ट्र में एक और आकर्षक राष्ट्रीय उद्यान है। पार्क में आपको प्रमुख वन्यजीवों और वनस्पतियों के अलावा कई विलुप्तप्राय प्रजातियां भी देखने को मिल जाएंगी। पार्क के अंदर पेंच नदी भी मौजूद है जो पर्यटकों के आकर्षण का प्रमुख केंद्र है। इसके अलावा सीता घाट, अलीकट्टा, छिंदिमट्टा रोड और रोमांचक सवारी पार्क के प्रमुख आकर्षण केंद्रों में शामिल हैं।

m

भीमाशंकर वन्यजीव अभयारण्य

भारत के प्रमुख वन्यजीव अभयारण्यों में से एक भीमाशंकर वन्यजीव अभयारण्य पुणे और महाराष्ट्र के एक प्रमुख पर्यटक स्थल के रूप में भी लोकप्रिय है। यह अभयारण्य 120 वर्ग किमी के क्षेत्र में फैला हुआ है, जिसे सह्यादित पर्वत भी कहा जाता है। यह स्थान मुख्य रूप से भारतीय विशालकाय गिलहरी सहित कई स्थानिक और महामारी वाले पशु और पक्षी प्रजातियों का घर है। यह वनस्पतियों और जीवों में इतना समृद्ध है कि इसे दुनिया की जैवविविधता के आकर्षण के प्रमुख केन्द्रों में से एक माना जाता है। भीमाशंकर वन्यजीव अभयारण्य जंगल के ऐसे क्षेत्र हैं जो एक दिन की पिकनिक के लिए आदर्श स्थान हैं। जहाँ आप वन्यजीवो की विभिन्न प्रजातियों के साथ साथ ट्रेकिंग जैसी रोमांचक गतिविधियों को भी एन्जॉय कर सकते हैं।

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story