लद्दाख: खूबसूरत वादियों और बर्फ की चोटियों से सम्मोहित होते हैं पर्यटक, क्षेत्रफल में सबसे बड़ा और सबसे कम आबादी वाला केन्द्र शासित प्रदेश

m

लेह लद्दाख भारत के सबसे खूबसूरत केंद्र शासित प्रदेश है। भारत के सबसे खूबसूरत पर्यटन में से एक लद्दाख अब काराकोरम रेंज में सियाचिन ग्लेशियर से लेकर दक्षिण में मुख्य महान हिमालय तक का क्षेत्र घेरता है। ज्यादातर लोगों को लेह और लद्दाख को एक ही जगह समझते हैं लेकिन बता दें कि जम्मू और कश्मीर राज्य को तीन भागों में विभाजित किया गया है जिसमें जम्मू, कश्मीर और लद्दाख आते हैं। लद्दाख दो भागों में बांटा गया है जिसमें लेह जिला और कारगिल जिला शामिल है।

लेह शहर यहां स्थित अपने आकर्षक मठों, खूबसूरत पर्यटन स्थलों और शानदार बाजारों की वजह से पर्यटकों का पसंदीदा स्थान है। लेह लद्दाख अपने कठिन रास्तों, खूबसूरत बर्फबारी और कई साहसिक गतिविधियों की वजह से भारत में घूमने की सबसे अच्छी जगहों में से एक है।

m
लेह पैलेस

लेह पैलेस जिसे ‘Lhachen Palkhar’ के नाम से भी जाना जाता है जो लेह लद्दाख का एक प्रमुख ऐतिहासिक स्थल है और देश की एक ऐतिहासिक समृद्ध सम्पदाओं में से एक है। इस भव्य और आकर्षक संरचना को 17 वीं शताब्दी में राजा सेंगगे नामग्याल ने एक शाही महल के रूप में बनवाया था और इस हवेली में राजा और उनका पूरा राजसी परिवार रहता था। लेह पैलेस अपने समय की सबसे ऊँची इमारतों में से एक है जिसमें नौ मंजिलें हैं। ये महल लेह कर पूरे शहर का मनोरम दृश्य प्रस्तुत करता है।

m
लेह मार्केट

लेह मार्किट लेह-लद्दाख में पहला ऐसा स्थान है जिसको आप अपनी यात्रा के समय देखेंगे क्योंकि यह बिलकुल शहर के बीच में स्थित है। अगर आप लेह लद्दाख की यात्रा करने जा रहे हैं तो हम आपको यही सलाह देंगे कि आपको इस बाजार का दौरा जरुर करना चाहिए। लेह मार्किट एक ऐसी जगह है जहाँ पर आप बहुत कुछ खरीद सकते हैं। बता दें कि इस मार्किट में कई छोटे तिब्बती बाजार और स्मारिका की दुकानें हैं जो कशीदाकारी पैच जैसे विभिन्न लेख पेश करती हैं जो कस्टम मेड, पश्मीना शॉल, प्रार्थना के पहिये और विभिन्न चांदी की कलाकृतियों के रूप में हो सकते हैं। शॉपिंग करने के अलावा आप यहां लेह के कई तरह के स्थानीय भोजन का भी आनंद ले सकते हैं।

m

कारगिल

वर्ष 1999 में भारत-पाकिस्तान के बीच युद्ध का केन्द्र रहा यह स्थान युद्ध के बाद विश्व के ख्यातनाम पर्यटन स्थलों में शुमार हो गया है। अब यहाँ पर काफी संख्या में पर्यटक पहुँचने लगे हैं। हालांकि इन पर्यटकों को सेना के अधिकृत क्षेत्र में नहीं जाने दिया जाता है। कारगिल नियंत्रण रेखा के पास पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर के बाल्टिस्तान के पश्चिम और दक्षिण में कश्मीर घाटी के सामने पास स्थित है। सुरू, वाखा और द्रास घाटियों के साथ कारगिल जिले का हिस्सा हैं।

m
पैंगोंग झील

ब्लू पैंगोंग झील हिमालय में लेह-लद्दाख के पास स्थित प्रसिद्ध झील है जो 12 किलोमीटर लंबी है और भारत से तिब्बत तक फैली हुई है। यह झील करीब 43,000 मीटर की ऊंचाई पर है, जिसकी वजह से इसका तापमान -5 डिग्री सेल्सियस से 10 डिग्री सेल्सियस के बीच रहता है, यह अपनी लवणता के बावजूद भी सर्दियों के मौसम में पूरी तरह से जम जाती है। इस झील को पैंगॉन्ग त्सो के रूप में भी जाना जाता है और यह लम्बे समय से लेह लाद्द्ख का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। लेह लद्दाख की एक खूबसूरत जगह होने के साथ यह कई फिल्मों की शूटिंग का हॉट-स्पॉट होने की वजह से इस झील को काफी लोकप्रियता मिली है। पैंगोंग झील अपनी प्राकृतिक सुंदरता, क्रिस्टल जल और कोमल पहाड़ियाँ क्षेत्र के सुंदर परिदृश्य की वजह से एक लेह-लद्दाख का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है।

m
पैंगोंग झील की जुड़वां त्सो मोरीरी झील

त्सो मोरीरी झील पैंगोंग झील की जुड़वां झील है जो चांगटांग वन्यजीव अभयारण्य के अंदर स्थित है। बता दें कि यह झील यहां आने वाले पर्यटकों को सुंदर वातावरण और शांति प्रदान करती है। इस झील का जल निकाय उत्तर से दक्षिण तक लगभग 28 किमी और गहराई में लगभग 100 फीट है। बर्फ से ढके खूबसूरत पहाड़ों की पृष्ठभूमि के साथ आकर्षक त्सो मोरीरी झील बंजर पहाड़ियों से घिरी हुई है। वैसे लोग इस झील के बारे बहुत कम जानते हैं इसलिए यहां पर पर्यटकों की ज्यादा भीड़ नहीं होती।

m
गुरुद्वारा पत्थर साहिब

गुरुद्वारा पत्थर साहिब लेह से लगभग 20 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। इस खूबसूरत गुरुद्वारा साहिब 1517 में गुरु नानक की याद में बनाया गया था। जैसा कि इसके नाम से ही समझ आता है कि लेह का यह तीर्थ स्थल एक अचल चट्टान है जिसको गुरु नानक जी की नेगेटिव इमेज माना जाता है। यह जगह कई ट्रक चालकों और सेना के काफिले के लिए एक बहुत ही खास जगह है। यहां आगे के कठिन मार्ग की यात्रा करने से पहले प्रसिद्ध गुरुद्वारा साहिब के दर्शन करना शुभ माना जाता है।

m
शांति स्तूप

शांति स्तूप लेह लद्दाख का एक प्रमुख धार्मिक स्थल है जो एक बौद्ध सफेद गुंबद वाला स्तूप है। शांति स्तूप का निर्माण एक जापानी बौद्ध भिक्षु ग्योम्यो नाकामुरा द्वारा बनाया गया था और 14 वें दलाई लामा द्वारा खुद को विस्थापित किया गया था। यह स्तूप अपने आधार पर बुद्ध के अवशेष रखता है और यहां के आसपास के परिदृश्य का मनोरम दृश्य प्रदान करता है। शांति स्तूप को लेह में एक प्रमुख पर्यटन स्थल माना जाता है जो समुद्र तल से 4,267 मीटर की ऊंचाई और सड़क मार्ग से 5 किलोमीटर की दूरी पर है। यहां वैकल्पिक रूप से आप लेह शहर से 500 सीढ़ियां चढ़कर स्तूप तक पहुंच सकते हैं।

m
मैग्नेटिक हिल

लद्दाख के लोकप्रिय मैग्नेटिक हिल को ग्रेविटी हिल भी कहा जाता है, जहाँ पर वाहन गुरुत्वाकर्षण बल की वजह से अपने आप पहाड़ी की तरफ बढ़ते हैं। यह पहाड़ी समुद्र के स्तर से लगभग 14,000 फीट की ऊंचाई पर और लेह शहर से 30 किमी की दूरी पर स्थित है। पहाड़ी के पूर्वी हिस्से में सिंधु नदी बहती है, जो तिब्बत में निकलती है जो लद्दाख की यात्रियों के लिए एक अवश्य पड़ाव है। इस पहाड़ी में एक ऑप्टिकल भ्रम या वास्तविकता, लद्दाख में मेगनेटिक हिल का रहस्य दुनिया भर के पर्यटकों को अपनी तरफ आकर्षित करता है।

m
चादर ट्रैक

चादर ट्रैक लेह लद्दाख के सबसे कठिन और सबसे साहसिक ट्रेक में से एक है। इस ट्रैक को चादर ट्रैक इसलिए कहा जाता है क्योंकि जांस्कर नदी सर्दियों के दौरान नदी से बर्फ की सफेद चादर में बदल जाती है। चदर फ्रोजन रिवर ट्रेक दूसरे ट्रेकिंग वाली जगह से बिलकुल अलग है।

m
फुगताल मठ

फुकताल या फुगताल मठ एक अलग मठ है जो लद्दाख में जांस्कर क्षेत्र के दक्षिणी और पूर्वी भाग में स्थित है। यह उन उपदेशकों और विद्वानों की जगह है जो प्राचीन काल में यहां रहते थे। यह जगह ध्यान करने, शिक्षा, सीखने और एन्जॉय करने की जगह थी। झुकरी बोली में फुक का अर्थ है “गुफा”, और ताल का अर्थ है “आराम ” होता है। यह 2250 साल पुराना मठ एकमात्र ऐसा मठ है जहाँ पर पैदल यात्रा करके पहुंचा जा सकता है। फुगताल मठ लद्दाख के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है और ट्रेकिंग प्रेमियों के लिए एक बहुत खास जगह है। अगर आप लेह लद्दाख की यात्रा करने के लिए जा रहे हैं तो इस पर्यटन स्थल की सैर करना न भूलें। यहां मंदिर में लोगों द्वारा अच्छे जीवन और कामों के लिए हर दिन प्रार्थना की जाती है। यहां के त्यौहारों बहुत ही उत्साह और मनोरंजन के साथ मनाया जाता है।

m
खारदुंग ला पास

खारदुंग ला पास को लद्दाख क्षेत्र में नुब्रा और श्योक घाटियों के प्रवेश द्वार के रूप में जाना जाता है। खारदुंग ला दर्रा, जिसे आमतौर पर खड़जोंग ला कहा जाता है, यह सियाचिन ग्लेशियर में एक बहुत ही महत्वपूर्ण स्ट्रेटेजिक पास है जो 5,602 मीटर की ऊंचाई पर दुनिया के सबसे ऊँचे मोटर सक्षम पास होने का दावा करता है। यहां की प्राकृतिक सुंदरता, हवा यह महसूस करवाती है जैसे कि आप दुनिया के शीर्ष पर हैं। पिछले कुछ सालों में खारदुंग ला पास लेह लद्दाख का एक प्रमुख पर्यटन स्थल बन गया है।

m
हेमिस मठ

लेह शहर के प्रमुख पर्यटन और दर्शनीय स्थल में हेमिस मठ का नाम भी शामिल है जो 11 वीं शताब्दी से पहले अस्तित्व में है और इसको 1672 में फिर से स्थापित किया गया था। यह एक तिब्बती मठ है जो सबसे धनी है और लद्दाख में सबसे बड़ा है। हेमिस मठ लेह शहर से 45 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है जो हर 12 साल में खुलता है। हेमिस मठ हर साल भगवान पद्मसंभव के सम्मान में आयोजित वार्षिक उत्सव की मेजबानी करता है। यह दुनिया में होने वाले आकर्षक उत्सवों में से एक है। आपको बता दें कि हेमिस लुप्तप्राय प्रजाति “शो तेंदुआ” का भी घर है, जो यहां स्थित हेमिस नेशनल पार्क में पाया जाता है।

m
रिवर राफ्टिंग

लद्दाख में जांस्कर नदी पर राफ्टिंग करना एक खास अनुभव दे सकता है। जांस्कर नदी को भारत का ग्रैंड कैन्यन कहा जाता है। जांस्कर नदी राफ्टिंग दुनिया की सबसे अच्छी नदी यात्राओं में से एक है। लेकिन अगर आप राफ्टिंग के लिए जाते हैं तो अपने साथ पर्याप्त पीने के पानी ले जाना न भूलें। नदी में राफ्टिंग करने के लिए आप गाइड द्वारा दिए गए सभी निर्देशों का पालन करें। जून से लेकर सितंबर के महीने राफ्टिंग के लिए अच्छे हैं।

m
स्टोक पैलेस

स्टोक पैलेस सिंधु नदी के करीब स्थित लेह-लद्दाख में देखने की सबसे अच्छी जगहों में से एक है। इस महल को 1825 ईस्वी में राजा त्सेपाल तोंदुप नामग्याल द्वारा बनाया गया था। यह आकर्षक महल अपनी वास्तुकला, डिजाइन, सुंदर उद्यानों और अद्भुत दृश्यों के लिए प्रसिद्ध है। इसके साथ ही यह महल शाही पोशाक, मुकुट और अन्य शाही सामग्रियों के संग्रह का स्थान भी है। स्टोक पैलेस को देखने के लिए आप जीपों और साझा टैक्सियों के माध्यम से आसानी से पहुंच सकते हैं।

m

माउंटेन बाइकिंग

लेह-लद्दाख को माउंटेन बाईकर्स के लिए स्वर्ग माना जाता है। यहां पर हर साल हजारों पर्यटक खड़ी ढलानों और एड्रेनालाईन के रास्ते पर बाइकिंग का मजा लेने के लिए आते हैं। साहसी माउंटेन बाइकर्स के लिए लेह-मनाली राजमार्ग शानदार सड़क है, जहाँ से सुरम्य परिदृश्य का आनंद ले सकते हैं। लद्दाख में माउंटेन बाइकिंग के लिए सबसे अच्छा समय मई से सितंबर तक का है क्योंकि यह बाइकिंग के लिए मई के अंत में खुलता है और सितंबर के अंत तक बंद हो जाता है।

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story