सहजन के ये 3 फायदे नहीं जानते होंगे आप

m

आपने पहले सहजन के बारे में जरूर सुना होगा! सहजन या मोरिंगा, जिसे ड्रमस्टिक्स के रूप में भी जाना जाता है। यह एक ऐसी सब्‍जी है जिसका इस्‍तेमाल आमतौर पर कई तरह के व्‍यंजन जैसे सांभर, सूप, अवियल आदि में किया जाता है। शायद आपने इसके हेल्‍थ से जुड़े फायदों के बारे में भी सुना होगा। लेकिन आज हम आपको सहजन से जुड़े 3 जबरदस्‍त फायदों के बारे में बता रहे हैं-

m

सहजन को अपने शक्तिशाली गुणों के कारण सुपर प्लांट मानते हैं। इसमें गाजर से ज्यादा विटामिन-ए, दूध से ज्यादा कैल्शियम, पालक से ज्यादा आयरन, संतरे से ज्यादा विटामिन-सी और केले से ज्यादा पोटैशियम होता है। ये गुण हमारे शरीर को कई तरह की बीमारियों से लड़ने में मदद करते हैं। सहजन की पत्तियों में पोटैशियम, फॉस्फोरस, जिंक और मैग्नीशियम जैसे मिनरल्स होते हैं। सहजन की 100 ग्राम में निम्नलिखित विटामिन्‍स और मिनरल्‍स होते हैं-

m

सहजन के पोषण तत्‍व
विटामिन-ए- 6.78 मिलीग्राम
विटामिन-सी - 220 मिलीग्राम
आयरन- 0.85 मिलीग्राम
फाइबर- 0.90 मिलीग्राम
राइबोफ्लेविन- 0.05 मिलीग्राम
कैल्शियम- 440 मिलीग्राम
थायमिन- 0.06 मिलीग्राम
फैट- 1.70 मिलीग्राम
कैलोरी- 92
कार्बोहाइड्रेट- 12.5 ग्राम
प्रोटीन- 6.70 ग्राम
सहजन के फायदे

m
हड्डियों की हेल्‍थ के लिए अच्‍छा

सहजन हड्डियों को दुरुस्‍त रखता है। यह कैल्शियम और आयरन से भरपूर होता है। ये दोनों ही चीजें मजबूत हड्डियों के लिए जरूरी हैं। इसके अलावा, सहजन में फॉस्फोरस और जिंक जैसे मिनरल्‍स बढ़ती उम्र में हड्डियों और जोड़ों को हेल्‍दी रखते हैं।इसके अलावा, इसमें एंटी-ऑस्टियोपोरोटिक गुण भी होते हैं, जो ऑस्टियोपोरोसिस होने के खतरे को कम करते हैं।

m

डायबिटीज में फायदेमंद

सहजन डायबिटीज से ग्रस्‍त लोगों के लिए अच्‍छा होता है, क्‍योंकि इसमें इंसुलिन जैसा प्रोटीन होता है। यह ब्‍लैडर को डिटॉक्‍स करता है, जिससे शरीर का ब्‍लड शुगर लेवल कंट्रोल में रहता है।सहजन में ग्लाइकोसाइड-क्रिप्टो क्लोरोजेनिक एसिड की मौजूदगी डायबिटीज के प्रभाव कम करती है। इसलिए, अगर आपका ब्लड शुगर लेवल हाई है, तो आप डाइट में सहजन को शामिल करें।

m

पेट के लिए अमृत

सहजन राइबोफ्लेविन जैसे विटामिन-बी होता है, जो आपके डाइजेस्टिव-सिस्‍टम को ठीक रखता है। विटामिन-बी भोजन को तोड़ता है, जिससे इसे पचाना आसान हो जाता है। इसके अलावा, सहजन में फाइबर मौजूद होता है। यह पेट से जुड़ी समस्‍याओं जैसे कब्‍ज, एसिडिटी को दूर करता है।इसमें एंटी-अल्सर गुण भी मौजूद होते हैं। इसलिए, इसे खाने से अल्सर का खतरा कम होता है।

m

सहजन को कैसे लेना चाहिए?
सहजन को पत्ते, पाउडर, जूस या सब्‍जी के रूप में लिया जा सकता है।
आप गर्म पानी में सहजन की कुछ पत्तियां डालकर उबालें। फिर इसमें नींबू की कुछ बूंदें मिलाएं। फिर इसे लें।
आप कटी हुई ताजी पत्तियों को कई व्यंजनों में डालकर ले सकते हैं। आप सहजन के पाडउर को सूप या करी में डालकर भी ले सकते हैं। सहजन पाउडर को रोजाना 2-3 ग्राम लिया जा सकता है।
आप चाहें तो सहजन की सब्‍जी बनाकर खा सकते हैं।

mm

सावधानियां
सहजन की ज्‍यादा मात्रा से आपको कई तरह के साइड इफेक्‍ट्स हो सकते हैं-

आपका ब्‍लड प्रेशर कम हो जाता है।
हार्ट रेट स्‍लो हो जाती है।
इसे थायरॉइड की दवा के साथ लेने से बचें।
इन 3 फायदों को पाने के लिए आप भी सहजन को डाइट में शामिल करें। आपको भी हेल्‍थ से जुड़ी कोई समस्या है, तो हमें आर्टिकल के नीचे दिए कमेंट बॉक्स में बताएं और हम अपनी स्टोरीज के जरिए इसका हल करने की कोशिश करेंगे। अगर आपको यह स्टोरी अच्छी लगी है, तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़ी रहें हरजिंदगी से।


 

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story