पुरुषों को अपनी चपेट में जल्दी लेता है पथरी का ये रूप, जानें बचाव के उपाय

n

आज के समय में गलत खानपान कई चीजों को न्योता देती हैं, इन्हीं में से एक है’ किडनी स्टोन’ यानी गुर्दे की पथरी की समस्या। एक कठोर, क्रिस्टलीय खनिज जमाव होता है, जो छोटे-छोटे पत्थरों की तरह किडनी में जमा हो जाता है। आमतौर पर किडनी स्टोन कैल्शियम, ऑक्सालेट और यूरिक एसिड जैसे खनिजों से बनता है। विशेषज्ञों की माने तो किडनी स्टोन सीधे तौर पर हमारे यूरिन मार्ग को प्रभावित करती है। गुर्दे की पथरी बनने का एक प्रमुख कारण यह है कि जब घुले हुए खनिज गुर्दे के अंदर जमा हो जाते हैं। उनमें मूत्र पथ में प्रवेश करने की क्षमता होती है, जहां वे समस्याएं पैदा कर सकते हैं। पथरी की समस्या सामान्य है और ये अक्सर लोगों में देखने को मिलती है।  कुछ गुर्दे की पथरी गोल्फ की गेंद के आकार तक विकसित हो जाती है, जबकि अधिकांश गुर्दे की पथरी छोटी होती है और मूत्र नलिका से बिना पता चले निकल जाती है। 

गुर्दे की पथरी के प्रकार-

m

यूरिक एसिड स्टोन पुरुषों में अधिक प्रचलित है और उन लोगों में इसके उत्पन्न होने की अधिक संभावना है जो पर्याप्त पानी नहीं पीते हैं या जो अपने आहार में बहुत अधिक पशु प्रोटीन का सेवन करते हैं। इसके अलावा, गठिया से पीड़ित व्यक्तियों या जिनके परिवार में गुर्दे की पथरी का इतिहास रहा हो और जो लोग कीमोथेरेपी से गुजर चुके हैं, उनमें इसकी अधिक संभावना होती है। 

स्ट्रूवाइट पथरी महिलाओं में अधिक आम है और विशिष्ट यूटीआई के परिणामस्वरूप विकसित होती है।  ये पथरी अक्सर तेजी से विकसित होती है और बड़ी हो जाती है, कभी-कभी पूरी किडनी को अपनी चपेट में ले लेती है। यदि इन्हें नज़रअंदाज किया जाए, तो इनके परिणामस्वरूप बार-बार, अक्सर गंभीर मूत्र संक्रमण हो सकता है और साथ ही गुर्दे की कार्यप्रणाली में भी गिरावट आ सकती

m

हैस्ट्रूवाइट स्टोन्स वो सख्त मिनरल है, जो किडनी में बनते हैं। यह पथरी तब बनती है जब कैल्शियम और फॉस्फेट जैसे खनिज किडनी के अंदर क्रिस्टलीकृत हो जाते हैं और एक साथ चिपक जाते हैं। 

 कैल्शियम ऑक्सालेट स्टोन किडनी स्टोन का सबसे विशिष्ट प्रकार है। ऐसा तब होता है जब मूत्र में कैल्शियम, ऑक्सालेट या यूरिक एसिड का स्तर उच्च हो जाता है, लेकिन साइट्रेट का स्तर कम होता है। ऑक्सालेट, एक रसायन जो पौधों और जानवरों दोनों में प्राकृतिक रूप से मौजूद होता है, ये उन आहारों से जुड़ा होता है जिनमें कैल्शियम ऑक्सालेट पत्थरों की मात्रा अधिक होती है। चुकंदर, काली चाय, चॉकलेट, बादाम, आलू और पालक इनमें से कुछ हैं। 

m

रोकथाम
जीवनशैली में बदलाव लाकर गुर्दे की पथरी को रोका जा सकता है। उन्हें बढ़ने से रोकने के लिए इन युक्तियों पर ध्यान दें-

दिन भर में खूब सारा पानी पीने से गुर्दे की पथरी बनने से काफी प्रभावी ढंग से बचा जा सकता है। अगर आपको लिवर या दिल की बीमारी नहीं है तो सलाह दी जाती है कि आप रोजाना 2-2.5 लीटर पानी पिएं। 

संतरे और नींबू पानी जैसे खट्टे तरल पदार्थों का सेवन करने का प्रयास करें। इन तरल पदार्थों की साइट्रेट सामग्री क्रिस्टल पत्थरों के विकास को रोकने में सहायता करेगी। 

m

नमक (सोडियम) का सेवन कम करें। इसके परिणामस्वरूप मूत्र में अत्यधिक कैल्शियम के निर्माण के परिणामस्वरूप गुर्दे की पथरी बन जाती है। 

नियमित रूप से अधिक मांस खाने से यूरिक एसिड की समस्या और गुर्दे की पथरी का खतरा बढ़ सकता है। जोखिम को कम करने के लिए चिकन और मछली का कम मात्रा में सेवन करें। 

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story