गर्मियों में बढ़ जाता हैं वजाइना में इंफेक्शन का खतरा, इन टिप्स से रखें इसका ख्याल

m

गर्मियों के दिनों में सेहत को लेकर फिक्रमंद रहना गलत नहीं हैं क्योंकि इन दिनों में पसीने और गलत खानपान की वजह से सेहत कभी भी बिगड़ सकती हैं। सूरज की हानिकारक किरणें और वातावरण का तापमान त्वचा को प्रभावित कर सकते हैं। ऐसे में गर्मियों के दिनों में वजाइना में इंफेक्शन का खतरा भी बना रहता हैं। गर्मी में सभी अपनी त्वचा बाल एवं पाचन क्रिया को स्वस्थ रखने के लिए दिनचर्या में कई सारे बदलाव करते हैं। परंतु क्या अपने अभी तक अपनी इंटिमेट हेल्थ यानी कि वेजाइना की सेहत के लिए कुछ भी किया है। वेजाइना शरीर के संवेदनशील अंगों में से एक है। गर्मियों में अक्सर महिलाओं को योनि में रैशेज, इचिंग और असामान्य बदबू की शिकायत रहती है। ऐसे में आज हम आपको कुछ ऐसे टिप्स बताने जा रहे हैं जिनकी मदद से आप वजाइनल हेल्थ पर ध्यान दे सकते हैं। आइये जानते हैं इन टिप्स के बारे में...

m

साफ-सफाई का रखें खास ख्याल

गर्मियों में पसीना बढ़ने से वजाइना में खुलजी और जलन की समस्या बढ़ सकती है। ऐसे में हाइजीन मेंटेन न करना कई इंफेक्शन का कारण बन सकता है। एक्सपर्ट के मुताबिक गर्मियों में साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखना चाहिए। आप जितनी बार भी यूरिनेट के लिए जाते हैं, हर बार योनि की सफाई के लिए पानी का इस्तेमाल करें। वहीं योनि को गीला छोड़ने से भी खुजली का खतरा ज्यादा बढ़ सकता है। इसके साथ ही योनि की सफाई के बार टिशू से क्लीन करना न भूले, इससे इंफेक्शन होने का खतरा नही होगा।

m
प्यूविक हेयर को ट्रिम करना है जरुरी

गर्मी के मौसम में प्राइवेट पार्टस की हेयर आपको परेशान कर सकती हैं। बाल ज्यादा होने के कारण अधिक पसीना आता है जिसकी वजह से खुजली होती है। वहीं दूसरी और प्यूबिक हेयर बैक्टीरिया और अन्य खतरनाक रोगजनको को योनि में प्रवेश करने से रोकता है और यूटीआई जैसे अन्य परेशानियों से दूर रखता है। इस स्थिति में कभी भी अपने प्यूबिक हेयर को शेव न करें इन्हे पूरी तरह से हटा देने से इन्फेक्शन का खतरा बढ़ जाता है। वैक्सिंग से त्वचा के जलने का खतरा बना रहता है, वहीं वैक्सिंग के साइड इफेक्ट्स भी देखने को मिल सकते हैं। प्यूबिक हेयर को ट्रिम करना एक अच्छा आईडिया है। इन्हे पूरी तरह से हटाने की जगह अपने बालों को ट्रिमर से छोटा कर लें। ताकि इनग्रोन हेयर और किसी प्रकार के साइड इफ़ेक्ट का खतरा न रहे।

m

कॉटन पैंटी का करें इस्तेमाल

टाइट पैंट्स और पैंटी पहनने से आपकी वजाइनल हेल्थ को नुकसान पहुच सकता है। सिंथेटिक कपड़े से हवा पास होने में परेशानी होती है और योनि को नेचुरल एयर नहीं मिलता। यह सभी फैक्टर वेजाइनल इचिंग और इन्फेक्शन का कारण हो सकती हैं। टाइट पैंटी वजाइना में बैक्टीरिया बढ़ा सकती है। इसके कारण वजाइना से बद्बु आना, सफेद पानी जाना, खुजली और इरिटेशन जैसी समस्याएं बढ़ सकती हैं। इसलिए गर्मियों में खासकर कॉटन पैंटी और लूज पैंट्स ही पहने, इससे आप दिनभर कंफर्ट महसूस कर पाएंगी।

m

SLS फ्री प्रोडक्ट्स ही इस्तेमाल करें

गयनेकोलॉजिस्ट के अनुसार प्राइवेट पार्ट्स को साफ़ करने के लिए SLS फ्री प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करें। एसएलएस युक्त प्रोडक्ट्स जैसे की साबुन और अन्य बॉडी वाश आपकी वेजाइना के पीएच लेवल को प्रभावित करते हुए संक्रमण के खतरे को बढ़ा देते हैं। यदि आपको किसी तरह का वेजाइनल इंफेक्शन है और यह लंबे समय से ठीक नहीं हो रहा तो फौरन डॉक्टर से मिलें और इस बारे में सलाह लें। गर्मी में योनि संबधी संक्रमण जल्दी ठीक नहीं होती और बाद में बड़ी समस्या का रूप ले सकती हैं।

m

डाइट का रखें विशेष ख्याल

आपकी डाइट वजाइनल हेल्थ को भी सीधी तौर पर प्रभावित करती है। अगर आप ज्यादा मसालेदार और तला-भुना ज्यादा खाते हैं, तो इससे पेट और वजाइना दोनों को नुकसान पहुच सकता है। इसलिए खासकर गर्मियों के दौरान हल्का खाने की आदत बनाएं। गर्मियों में तरल पदार्थो का सेवन ज्यादा करना चाहिए। यह न सिर्फ शरीर को ठण्डा रखने में मदद करेगा, बल्कि वजाइनल हेल्थ को भी बेहतर बनाए रखेगा। गर्मियों में नींबू पानी, छाछ, दही, लस्सी या जूस जैसे तरल पदार्थ भी जरूर लें।

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story