बारिश के मौसम में अस्थमा रोगी को आ सकता है अटैक, बरतें ये सावधानियां

asthma

बारिश के मौसम में अक्सर अस्थमा रोगियों को सांस की परेशानी होने लगती है। बरसात के सीजन में नमी होने और सूरज कम निकलने की वजह से धूप की कमी के कारण अस्थमा पेशेंट को परेशानी होती है। कई बार विटामिन डी की कमी होने के कारण दमा का अटैक भी आ सकता इन्हीं परेशानी को लेकर हम आज आपको कुछ सावधानियां बता रहे हैं जिसको आप अपनी रूटीन में अगर शामिल कर लें तो काफी हद तक अस्थमा की परेशानी से बच सकते हैं।

aaaaaaaas 

बारिश का मौसम बढ़ाता है दमा रोगी की परेशानी
इस मौसम में दमा के रोगियों को सांस लेने में काफी दिक्कते आती हैं। ऐसे व्यक्तियों को श्वास नलियों में सूजन आ जाती है, जिससे सांस नली सिकुड़ने लगती हैं। दमा के रोगियों को बरसात के मौसम में कुछ विशेष सावधानी रखने की जरूरत होती है। कुछ बातों का ध्यान रखने से दमा रोगियों की परेशानी काफी हद तक कम हो सकती हैं। अस्थमा का कारण जीवनशैली, पर्यावरणीय कारकों और अनुवांशिक गड़बड़ी आदि हो सकते हैं। 

ass

ठंड ज्यादा होने के कारण सांस लेने में होती है परेशानी
एक्सपर्ट्स के मुताबिक, बारिश में अस्थमा की शिकायत बढ़ने के कई कारण हैं, जिसमें से प्रमुख कारण है बरसात में धूप कम निकलना। इस वजह से हमारे शरीर में विटामिन डी की कमी हो जाती है। ये वजह ऐसी हैं जो अस्थमा का दौरा पड़ने की वजह को ट्रिगर करते हैं। वहीं, बरसात का ठंडा वातावरण ऐसे रोगियों के लिए और भी ज्यादा दिक्कत पैदा करता है। कई बार दमा का अटैक इतना खतरनाक होता है कि रोगी का दम उखड़ने लगता है। इस मौसम में गले में घरघराहट, खांसी और सांस लेने में तकलीफ होने लगती है।

ass कमरे में धूल के कण ज्यादा होने पर होगी परेशानी
घर की हवा साफ-सुथरी होनी चाहिए। खासतौर पर जिस कमरे में अस्थमा का मरीज सोता हो। कई बार कमरे की हवा भी अस्थमा अटैक की संभावनाओं को बढ़ा देती है। हर दूसरे दिन कमरे की डस्टिंग करें। 

aaass

बारिश में अस्थमा अटैक से बचने के तरीके
दमा के रोगियों को बरसात में सीलन वाली जगहों पर नहीं रहना चाहिए। अपने घर में रसोई और बाथरूम को हमेशा सूखा रखने की कोशिश करें। अगर आपको डॉक्टर ने इनहेलर लेने की सलाह दी है, तो बारिश में इसका इस्तेमाल जरूर करें। अपने घर के कार्पेट्स, तौलिया और बेडशीट्स साफ और सूखे रखें। घर में पालतू जानवर हैं तो उनसे दूरी बनाकर रखे।अगर घर में कहीं फंगस लगा है तो उसे तुरंत साफ कर दें। अस्थमा के मरीजों के लिए सबसे जरूरी है कि उन्हें बैलेंस डाइट लेना चाहिए। समय पर अपनी दवाओं का सेवन करें। 

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story