सर्दियों में भी रहेंगी फिट, रात को सोने से पहले बिस्‍तर में ही करें ये योगासन 

स

योगा करना हमारे स्वास्थ्य के लिए काफी लाभदायक होता है। खासकर आज के लाइफ स्टाइल और खान-पान को देखते हुए योग करना बहुत ही जरुरी है। इससे आप कई बिमारियों से खुद को बचा सकती है। योग मन और शरीर के मिलन की प्राचीन प्रथा भी है। दैवीय विज्ञान यानी योग की खूबी यह है कि इसे सोने से ठीक पहले अपने बिस्तर पर भी कर सकते हैं और यहां तक कि जैसे ही आप जागते हैं। हालांकि, नींद से पहले किए जाने वाले योग से अगले दिन की शुरुआत करने के लिए शांत दिमाग के साथ-साथ टोंड शरीर पाने में मदद मिलती है। भले ही बिस्तर पर आराम से योग आसनों को शामिल करना संभव हो, लेकिन ध्यान रखें कि बिस्तर बहुत नरम न हो। ऐसा इसलिए है क्योंकि फर्श की सख्त सतह स्ट्रेचिंग के लिए अधिक समर्थन और प्रतिरोध प्रदान करती है।

वहीं किनारे पर अभ्यास करने के बजाय बिस्तर के बीच का उपयोग करके सावधानी बरतें क्योंकि आप गिर सकती हैं और चोट लग सकती है। अपने शरीर में संवेदनाओं पर ध्यान दें यदि दर्द या बेचैनी है, तो तुरंत बालासन की मुद्रा में जाएं। आज हम आपको उन योगासन के बारे में बताएंगे जिन्हें रात में सोने से पहले बिस्‍तर में ही करें इससे आप फिट रहेंगी।

2. सुखासन - हैप्पी पोज

सुखासन में दोनों पैरों को फैलाकर सीधी बैठ जाएं।
बाएं पैर को मोड़ें और दाहिनी जांघ के अंदर दबाएं।
फिर दाहिने पैर को मोड़कर बाई जांघ के अंदर दबाएं।
हथेलियों को घुटनों पर रखें।
रीढ़ की हड्डी को सीधा करके बैठें।

स

2. बालासन (बच्चे की मुद्रा)

चटाई पर घुटनों के बल बैठ जाएं और एड़ी के बल बैठ जाएं। 
सांस भरते हुए हाथों को सिर के ऊपर उठाएं।
सांस छोड़ें और ऊपरी शरीर को आगे की ओर झुकाएं।
माथा बिस्‍तर पर रखें।
पेल्विक को एड़ियों पर आराम देना चाहिए।
सुनिश्चित करें कि पीठ झुकी हुई न हो।

स

3. वज्रासन
यह एकमात्र आसन है जिसे पेट भरकर किया जा सकता है। वास्तव में, इसे भोजन करने के ठीक बाद करना चाहिए।
इसे करने के लिए धीरे से अपने घुटनों को नीचे करें।
एड़ियों को एक दूसरे के पास रखें।
पैर की उंगलियों को एक दूसरे के ऊपर न रखें, इसके बजाय दाएं और बाएं एक दूसरे के बगल में होने चाहिए।
हथेलियों को घुटनों पर ऊपर की ओर रखें।
पीठ को सीधा करें और आगे देखें।

स

4. पश्चिमोत्तानासन
इसे दंडासन से शुरू करें।
सुनिश्चित करें कि घुटने थोड़े मुड़े हुए हैं जबकि पैर आगे की ओर स्‍ट्रेच होने चाहिए।
बाजुओं को ऊपर की ओर फैलाएं और रीढ़ को सीधा रखें।
सांस छोड़ें और पेट की हवा को खाली करें।
सांस छोड़ते हुए, कूल्हे पर आगे की ओर झुकें और ऊपरी शरीर को निचले शरीर पर रखें।
बाजुओं को नीचे करें और पैर की उंगलियों को हाथ से पकड़ें।
घुटनों को नाक से छूने की कोशिश करें।
10 सेकेंड के लिए इस आसन में रहें।

 स

5. मार्जरी आसन

ऊर्ध्व मुखी मार्जरी आसन
घुटनों के बल आ जाएं, हथेलियों को कंधों के नीचे और घुटनों को कूल्हों के नीचे रखें।
श्वास अंदर लें, ऊपर देखने के लिए रीढ़ को मोड़ें।
अधो मुखी मार्जरी आसन

सांस छोड़ें, रीढ़ को मोड़कर पीठ का एक आर्च बनाएं और गर्दन को नीचे आने दें।
निगाहों को अपनी चेस्‍ट की ओर केंद्रित करें।

,

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story