बिना मास्क लगाए बातचीत करने से फैल सकता है कोविड

vv
न्यूयॉर्क। एक अध्ययन के अनुसार, सीमित जगहों पर बिना मास्क के बोलने से एसएआरएस कोव 2 फैलने का सबसे बड़ा खतरा होता है, जो वायरस कोविड 19 का कारण बनता है।

जर्नल ऑफ इंटरनल मेडिसिन में प्रकाशित अध्ययन में बताया गया है कि बोलने के दौरान अलग अलग आकार की सांस की बूंदें निकलती हैं, जो अलग अलग मात्रा में वायरस अंदर ले जा सकती हैं।

अधिकांश संबंधित मध्यवर्ती आकार की बूंदें हैं जो काफी मिनटों के लिए हवा में निलंबित रहती हैं और संवहनी वायु धाराओं द्वारा वायरस को अंदर ले जा सकती है।

मैरीलैंड में यूएस नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डायबिटीज एंड डाइजेस्टिव एंड किडनी डिजीज के एड्रियान बैक्स ने कहा, हम सभी ने देखा है कि जब लोग बात करते हैं तो थूक की कुछ बूंदें उड़ती हैं, लेकिन हजारों और छोटी ऐसी होती हैं, जिन्हें नग्न आंखों से नहीं देखा जा सकता है।

बैक्स ने कहा, जब पानी ऐसे भाषण जनित, संभावित रूप से वायरस से भरपूर बूंदों से वाष्पित हो जाता है, तो वे धुएं की तरह हवा में मिनटों के लिए तैरते हैं, जिससे दूसरों को खतरा होता है।

पिछले साल कोविड 19 महामारी की शुरूआत के बाद से, शोधकतार्ओं ने तर्क दिया है कि कोविड 19 हवाई नहीं था। हालांकि, यूएस सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) ने मई में घोषणा की कि श्वसन तरल पदार्थ के संपर्क में बहुत महीन श्वसन की बूंदें और एयरोसोल कण हवा में मौजूद होते हैं और जो वायरस ले जाते हैं, वे कोविड 19 संक्रमण के अनुबंध का मुख्य कारण बनते हैं।

भारत सरकार ने एक एडवाइजरी में भी कहा कि एरोसोल और ड्रॉपलेट्स वायरस के संचरण के प्रमुख साधन हैं। इसमें कहा गया है कि एरोसोल संक्रमित व्यक्ति से दस मीटर तक की यात्रा कर सकता है, और संक्रमित व्यक्ति के माध्यम से एरोसोल दो मीटर के भीतर गिर सकता है लेकिन हवा के माध्यम से दस मीटर तक ले जाया जा सकता है।

एडवाइजरी में कहा गया है कि इससे बचने के लिए लोगों को मास्क पहनना जारी रखना चाहिए, डबल मास्क या एन95 मास्क पहनना चाहिए। जिसके क्रॉस वेंटिलेशन और एग्जॉस्ट फैन बीमारी के प्रसार को कम करने में फायदेमंद होंगे।

--आईएएनएस

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक  करें।

Share this story