त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव : चंदौली में गहमागहमी के बीच चल रही मतों की गिनती, आने लगे परिणाम

त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव : चंदौली में गहमागहमी के बीच चल रही मतों की गिनती, आने लगे परिणाम

चंदौली। जिले में गहमागहमी के बीच ब्लाकों में बनाए गए नौ मतगणना स्थलों पर वोटों की गिनती क्रम जारी है। दोपहर तक परिणाम भी आने लगे। मतगणना स्थल में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। वहीं कोविड प्रोटोकाल का कड़ाई के साथ पालन कराया जा रहा है। 

मतगणना का कार्य सुबह आठ बजे शुरू हुआ। हालांकि मतगणना कार्मिक सुबह छह बजे तक ही मतगणना केंद्रों पर पहुंच गए थे। प्रत्याशियों व अभिकर्ताओं के पहुंचने के बाद उनकी मौजूदगी में स्ट्रांग रूम का ताला खुला। नौगढ़, सदर, सकलडीहा समेत अन्य ब्लाकों में एक घंटे विलंब से लगभग नौ बजे मतगणना शुरू हुई। शुरूआत में मतगणना कार्मिकों ने मतपत्रों की छंटनी कर गड्डी बनाई। 

सबसे पहले ग्राम पंचायत सदस्य पद के उम्मीदवारों के वोटों की गिनती की जा रही है। वार्डवार परिणाम भी आने लगे हैं। जिन ग्राम पंचायतों में सदस्यों की गिनती पूरी हो गई है, वहां प्रधान पद के वोटों की गणना हो रही है। चकिया के इसहुल गांव के प्रधान प्रत्याशी ओमप्रकाश सिंह पटेल ने 470 मत पाकर दो वोटों से जीत दर्ज की। निकटतम प्रतिद्धंदी चंदन को 468 वोट मिले। 

इसी प्रकार अन्य ब्लाकों में भी परिणाम आने लगे हैं। प्रधान के बाद बीडीसी और अंत में जिला पंचायत सदस्य प्रत्याशियों के वोट गिने जाएंगे। मतगणना स्थल पर सुरक्षा व कोरोना को लेकर विशेष सतर्कता बरती जा रही है। एजेंटों की आरटीपीसीआर जांच रिपोर्ट देखने के बाद ही अंदर प्रवेश की अनुमति दी गई। वहीं गेट पर ही थमर्ल स्कैनिंग व आक्सीजन लेबल मापा गया। 

कम टेबल लगाए जाने से विलंब 
ब्लाकों में जिला प्रशासन की पूर्व योजना के मुताबिक टेबल नहीं लगाए गए हैं। इसके चलते मतों की गिनती में विलंब हो रहा है। चकिया में 39 के स्थान पर मात्र 11, सकलडीहा में 58 की बजाए 13 टेबल लगाए गए हैं। इसी प्रकार अन्य ब्लाकों में भी टेबलों की संख्या घटा दी गई। पहले न्याय पंचायत स्तर पर तीन टेबल लगाने की योजना बनाई गई थी लेकिन फिलहाल एक ही टेबल लगाया गया है। ऐसे में विलंब होना तय है।

फेसबुक पर हमसे जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये यहां क्लिक करें।

Share this story