श्री काशी विश्वनाथ धाम बनेगा आनंद कानन, तैयार होगा रुद्र और बिल्व वन, रोपे जाएंगे पौधे 

kashi

वाराणसी। श्री काशी विश्वनाथ धाम में रुद्राक्ष और बिल्व बन तैयार किया जाएगा। कारिडोर में 350 स्थानों पर पौधे रोपे जाएंगे। देवाधिदेव महादेव की अंगनाई को आनंद कानन का स्वरूप देने की तैयारी है। धाम में लगने वाला वन परिसर को हरा-भरा बनाएगा। वहीं दिव्यता का अहसास भी कराएगा। श्रद्धालुओं को गर्मी से भी राहत देगा। 

रुद्राक्ष शिव को अत्यंत प्रिय है। ऐसी मान्यता है कि जहां शिव के नेत्र से आंसू गिरे, वो रुद्राक्ष है। इसे शिव (रुद्र) का अक्ष (नेत्र) भी कहा गया है। बिल्वपत्र से भी बाबा का गहरा संबंध है। उन्हें जो बेल पत्र चढ़ाया जाता है, उसे भगवान के तीन नेत्रों के समान माना जाता है। मानसून सीजन में पौधे रोपने का काम शुरू हो जाएगा। 

मंदिर से लेकर गंगा द्वार तक लगभग 350 स्थानों पर पौधे रोपे जाएंगे। बाबा विश्वनाथ धाम में अगले साल से हरियाली का नजारा देखने को मिलेगा। श्रद्धालु बिल्व वन व रुद्र वन की छांव से होते हुए बाबा के दर्शन के लिए मंदिर तक पहुंचेंगे। मुख्य कार्यपालक अधिकारी विश्व भूषण मिश्रा के मुताबिक धाम में पौधे लगाने पर विचार किया जा रहा है। भगवान शिव को प्रिय बेल व रुद्राक्ष के पौधे रोपे जाएंगे।

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story