वाराणसी : अब पढ़ाई में छात्रों को नहीं होगी मुश्किल, वर्क बुक दूर करेगी लर्निंग गैप, राज्य हिंदी संस्थान तैयार कर रहा किताबें 

vns

वाराणसी। छात्रों को अब पाठ्यक्रम को समझने में मुश्किल नहीं होगी। राज्य हिंदी संस्थान की ओर से तैयार होने वाले वर्क बुक उनके लर्निंग गैप को दूर करने का काम करेगी। एससीईआरटी (राज्य शैक्षिक अनुसंधान परिषद) के निर्देश के बाद हिंदी संस्थान इस कार्य में जुट गया है। 

दरअसल, अब चौदह साल तक के बच्चों को फेल नहीं किया जा सकता है। ऐसे में सभी बच्चे अगली कक्षाओं में प्रमोट हो जाते हैं। इसमें कुछ ऐसे भी होते हैं, जिनकी शैक्षणिक क्षमता उस स्तर की नहीं होती। ऐसे में छात्रों को अगली कक्षा के पाठ्यक्रम को समझने में तमाम तरह की मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। इसके मद्देनजर एससीईआरटी छात्रों के लिए वर्क बुक तैयार करवा रहा है। इसके साथ राज्य हिंदी संस्थान की ओर से हिंदी टीचर गाइड और ट्रेनिंग माड्यूल भी तैयार कर रही है। इससे शिक्षा प्रणाली में काफी मदद मिलेगी। 

पुस्तकों के निर्माण के लिए डा. प्रदीप जायसवाल के नेतृत्व में हिंदी संस्थान में कार्यशाला का आयोजन किया जा रहा है। इसमें वाराणसी के साथ ही चंदौली, गाजीपुर, सोनभद्र, संत कबीर नगर और बुलंदशहर के शिक्षक शामिल हैं। कार्यशाला में साहित्यकार, विषय विशेषज्ञ और एकेडमिक रिसोर्स पर्सन भी बुलाए जाएंगे। सभी के साथ मंथन किया जाएगा और उनके सुझाव लिए जाएंगे। राज्य हिंदी संस्थान की निदेशक डा. ऋचा जोशी ने कहा कि एससीईआरटी के निर्देश पर कक्षा छह, सात व आठ के बच्चों के लिए हिंदी वर्क बुक, टीचर गाइड और ट्रेनिंग माड्यूल तैयार कराया जा रहा है। इन्हें एससीईआरटी को भेजा जाएगा। एससीईआरटी आगे निर्णय लेगी। 
 

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story