Kashi-Tamil sangamam : सांस्कृतिक कार्यक्रमों में दिखा काशी-तमिल संगमम् की झलक

vns

वाराणसी। काशी की पुण्य धरा पर काशी तमिल संगम का भव्य आयोजन किया जा रहा है। आयोजन की सबसे महत्वपूर्ण एवं मन को छू लेने वाले आकर्षणों में शामिल है काशी व तमिलनाडु के कलाकारों द्वारा प्रस्तुत सांस्कृतिक प्रस्तुतियां जो मन को मोह लेने वाली हैं। बुधवार को ही सांस्कृतिक प्रस्तुतियों में भक्ति धारा प्रवाहित हुई। 

vns

इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि के तौर पर उपस्थित रहें वार्षाव इंटरनेशनल ग्रुप के चेयरमैन राजा षणमुगम तथा गैर आधिकारिक सदस्य,को बोर्ड ऑफ ट्रेड,भारत सरकार का उत्तर प्रदेश सरकार में आयुष मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डॉ दयाशंकर मिश्र दयालु द्वारा सम्मानित किया गया। राजा षणमुगम ने कहा कि भारत सरकार द्वारा काशी तमिल संगमम् का आयोजन दो विविध संस्कृतियों को एकीकरण करने की अद्भुत पहल है।

vns

इस कार्यक्रम में संत अतुलानंद कोंवेंट स्कूल के विद्यार्थियों द्वारा तमिल और काशी की भाषा के समागम से दोनों की प्राचीन सांस्कृतिक धरोहरों  को लोकगीतों के माध्यम से श्रीमती सुनीता के नेतृत्व में प्रस्तुत किया गया। इसी विद्यालय की प्रीति यादव तथा शिवानी मिश्रा के निर्देशन में शिव सती विवाह एवं रौद्र रूप का शानदार नाट्य मंचन किया गया।

vns

तमिलनाडु से मुथु चंद्रन व कलाइमामणि के निर्देशन मैं आई थी ने तोल्पावई कुथु की शानदार प्रस्तुति दी। तोल्पावई कुथु एक प्रकार की कठपुतली कला है जो दक्षिण भारत में प्रदर्शित की जाती है। इसमें चमड़े की कठपुतलियों का प्रयोग भद्रकाली को समर्पित एक अनुष्ठान के रूप में किया जाता है। इसके लिए देवी मंदिरों में विशेष रूप से रंगमंच का निर्माण किया जाता है जिन्हें कुथुमदम कहा जाता है।

vns

एस जेवियर जया कुमार के निर्देशन में भक्तिमय लोकगीत,कारागाम,कवाड़ी, कोक्कली नृत्य,ग्राम देवता,करूप्पर नृत्य का मनमोहक प्रदर्शन किया गया। तमिलनाडु से आए कलाइमामणि, प्रिया,मुरली एवं उनके साथियों ने नवधा भक्ति पर भारतनाट्यम की प्रस्तुति दी। 
vns

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story