मीडिया ने कबड्डी के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है: पीकेएल तकनीकी निदेशक ई प्रसाद राव

मीडिया ने कबड्डी के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है: पीकेएल तकनीकी निदेशक ई प्रसाद राव
मीडिया ने कबड्डी के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है: पीकेएल तकनीकी निदेशक ई प्रसाद राव


नई दिल्ली, 13 फ़रवरी (हि.स.)। दस साल पहले प्रो कबड्डी लीग (पीकेएल) की शुरुआत के बाद से एक खेल के रूप में कबड्डी में काफी सुधार हुआ है। लीग खेल के मानक में सुधार करने और खिलाड़ियों को चोट या नुकसान से बचाने के लिए प्रयासरत है और इसी कारण पिछले कुछ वर्षों में, खेल में कई पुराने नियमों में बदलाव देखा गया है।

पीकेएल सीज़न 10 के दिल्ली चरण के दौरान, 'कबड्डी राव' के नाम से मशहूर प्रो कबड्डी लीग (पीकेएल) के तकनीकी निदेशक ई प्रसाद राव ने मीडिया कर्मियों के लिए एक सेशन का आयोजन किया था। ई प्रसाद राव दुनिया भर में कबड्डी के सबसे प्रमुख नामों में से एक हैं।

'मीडिया मास्टरक्लास' के दौरान, प्रसाद राव ने मीडिया के सामने खेल के छह प्रमुख नियम- लॉबी नियम, स्ट्रैटेजिक टाइमआउट, सब्सिट्यूशन नियम, रेडर सेफ नियम, बोनस प्वाइंट नियम और चेन टैकल - पेश किए।

राव ने कहा, “पिछले कुछ वर्षों में मीडिया ने कबड्डी के विकास में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। वे ही हैं जो खेल के नियमों को दर्शकों तक पहुँचाते हैं। यही कारण है कि मीडिया के लोगों के लिए यह समझना बहुत महत्वपूर्ण है कि कबड्डी कैसे काम करती है।

एक घंटे से अधिक समय तक चले सत्र में, पत्रकारों को प्रो कबड्डी लीग की आंतरिक कार्यप्रणाली के बारे में प्रत्यक्ष अनुभव दिया गया, जिसमें त्यागराज स्टेडियम का दौरा भी शामिल था। इस स्टेडियम ने पीकेएल सीजन 10 के दिल्ली लेग की मेजबानी की थी।

खेल के मैदान (एफओपी) में, पीकेएल के कुछ सबसे बड़े नामों की उपस्थिति से पत्रकार आश्चर्यचकित थे। इनमें यूपी योद्धाज टीम के दिग्गज प्रदीप नरवाल, पुनेरी पलटन के मोहम्मदरेज़ा शादलू और तमिल थलाइवाज से साहिल गुलिया और हिमांशु शामिल थे।

प्रदीप नरवाल और उनके साथी कबड्डी खिलाड़ियों ने कई तरह के चाल दिखाए, जिसमें एक सुपर रेड, एक सुपर टैकल, बोनस अंक और एक डू ऑर डाई रेड शामिल थी।

मास्टरक्लास होस्ट और विषय पर उनकी विशेषज्ञता के बारे में बोलते हुए यूपी योद्धाज के कप्तान नरवाल ने कहा, “राव सर कबड्डी के सबसे बड़े कोचों में से एक हैं। यदि आप कभी उनके नीचे खेलते हैं तो आप अनुशासन सीखते हैं। वह अनुशासन पर जोर देते हैं क्योंकि उनका मानना है कि यह आपको किसी भी खेल में बहुत आगे तक ले जाएगा, जिसे आप खेलना चाहते हैं। वह हमारे देश के वरिष्ठ कबड्डी मास्टर हैं और जब भी आप उनसे बात करते हैं, तो आप हमेशा कुछ नया सीखते हैं।”

इवेंट का समापन करते हुए, कबड्डी राव ने खेल को बेहतर बनाने के प्रयासों के लिए पीकेएल और उसके हितधारकों की बहुत प्रशंसा की।

उन्होंने कहा, “पीकेएल ने कबड्डी में जो नियम लागू किए हैं, वे खेल की बेहतरी के लिए हैं। कोई भी यह तर्क नहीं देगा कि ये नए नियम ख़राब हैं क्योंकि इन सदने खेल को और अधिक रोचक बना दिया है। प्रत्येक कबड्डी प्रेमी की ओर से, मुझे पीकेएल को खेल में उनके प्रयोग के लिए धन्यवाद देना चाहिए, क्योंकि इसने कबड्डी को दुनिया के हर महाद्वीप में पहुंचा दिया है।

हिन्दुस्थान समाचार/ सुनील

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story