खेलो इंडिया यूनिवर्सिटी गेम्स में अपनी छाप छोड़ना चाहते हैं निशानेबाज दीपक कुमार

खेलो इंडिया यूनिवर्सिटी गेम्स में अपनी छाप छोड़ना चाहते हैं निशानेबाज दीपक कुमार


गौतम बुद्ध नगर, 26 मई (हि.स.)। चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय, मेरठ का प्रतिनिधित्व करने वाले राइफल निशानेबाज दीपक कुमार का लक्ष्य खेलो इंडिया यूनिवर्सिटी गेम्स 2022 उत्तर प्रदेश के तीसरे संस्करण में अपनी छाप छोड़ना है। दीपक ने खेलो इंडिया यूनिवर्सिटी खेलों के पिछले संस्करण में भाग लिया था लेकिन पदक तालिका में जगह बनाने में असफल रहे थे। खेलो इंडिया यूनिवर्सिटी गेम्स का यह संस्करण उनके गृह राज्य में हो रहा है और वह मंच पर अपनी जगह बनाने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं।

मेरठ के ही रहने वाले दीपक 10 मीटर एयर राइफल के निशानेबाज हैं। उन्होंने चार राष्ट्रीय खेलों में भाग लिया है और उनका लक्ष्य राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय दोनों प्रतियोगिताओं में पदक जीतना है। वे कहते हैं, ''मेरा लक्ष्य यहां और अन्य टूर्नामेंटों में भी पदक जीतना है। मैं अपने लक्ष्य तक पहुंचने के लिए और अधिक समर्पण के साथ कड़ी मेहनत करूंगा।''

दीपक जब स्कूल में थे तभी से उन्हें शूटिंग से प्यार हो गया था। उन्होंने 2016 में पेशेवर रूप से निशानेबाजी शुरू की और अब तक वह देश के कुछ शीर्ष स्तर के निशानेबाजों का सामना कर चुके हैं। उन्होंने अपने छोटे भाई को भी खेल खेलने के लिए प्रेरित किया।

दीपक चार सदस्यों वाले एक मध्यमवर्गीय परिवार से आते हैं। कठिनाइयों के बावजूद, वह किसी दिन अपने पिता को गौरवान्वित करने के लिए दृढ़ संकल्पित है।

उन्होंने कहा, “मैं शूटिंग जारी रखना चाहता हूं, लेकिन कई वित्तीय बाधाएं हैं। किट और राइफल की कीमत बहुत अधिक हैं और मेरे पिता के लिए इतना बड़ा खर्चा उठाना बहुत कठिन है। मैं इस टूर्नामेंट में अपनी छाप छोड़ने और शीर्ष प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ियों के लिए उपलब्ध छात्रवृत्ति को सुरक्षित करने की कोशिश कर रहा हूं। पैसा आर्थिक रूप से मदद करेगा।”

हर एथलीट सीनियर खिलाड़ियों से प्रेरित होता है और सीखता है। दीपक भी इससे अछूते नहीं हैं। जब वह छोटे थे तो वह ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता अभिनव बिंद्रा से अत्यधिक प्रेरित थे।

उन्होंने कहा, “जब मैंने अभिनव बिंद्रा को देखा तो मुझे शूटिंग से प्यार हो गया। मेरा लक्ष्य उस ऊंचाई तक पहुंचना और अपने देश के लिए ओलंपिक स्वर्ण पदक जीतना है।”

दीपक का मानना है कि खेलो इंडिया यूनिवर्सिटी गेम्स कई युवा खेल प्रेमियों को खेल को करियर के रूप में अपनाने के लिए प्रेरित करेंगे। उन्हें गर्व है कि खेलो इंडिया यूनिवर्सिटी गेम्स का तीसरा संस्करण उनके गृह राज्य में हो रहा है।

उन्होंने कहा, “यह उत्तर प्रदेश के सभी एथलीटों के लिए बहुत गौरव का क्षण है क्योंकि यह हमारा घर है। व्यवस्थाएँ बहुत अच्छी हैं और हमें वह सब कुछ प्रदान किया जा रहा है जो आवश्यक है। मेरा मानना है कि इस टूर्नामेंट से नए चेहरे सामने आएंगे।'

हिन्दुस्थान समाचार/ सुनील

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story