मैं एक दिन भारत के लिए ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतना चाहता हूं: प्रिंस दीप सिंह

मैं एक दिन भारत के लिए ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतना चाहता हूं: प्रिंस दीप सिंह
मैं एक दिन भारत के लिए ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतना चाहता हूं: प्रिंस दीप सिंह


नई दिल्ली, 16 मई (हि.स.)। भारतीय जूनियर पुरुष हॉकी टीम इस महीने के अंत में होने वाले अपने यूरोप दौरे के लिए तैयारी कर रही है और टीम के गोलकीपर प्रिंस दीप सिंह अन्य देशों की टीमों के खिलाफ खेलने का मौका पाकर रोमांचित हैं।

रोहित की अगुवाई में भारतीय जूनियर पुरुष हॉकी टीम 20 से 29 मई के बीच बेल्जियम, जर्मनी और नीदरलैंड में मैच खेलेगी। दौरे का हिस्सा बनने के लिए चुने गए बीस खिलाड़ियों में प्रिंस दीप सिंह भी शामिल हैं, जिन्हें गोलकीपिंग की जिम्मेदारी निभाने के लिए बिक्रमजीत सिंह के साथ चुना गया है।

पंजाब के पठानकोट जिले की एक साधारण पृष्ठभूमि से आने वाले प्रिंस दीप सिंह ने 2016 में पहली बार हॉकी स्टिक उठाई थी। उन्होंने गुरुवार को हॉकी इंडिया के हवाले से कहा, मैंने टीवी पर भारतीय टीम को खेलते हुए देखा और विशेष रूप से पीआर श्रीजेश के खेल का शौकीन था। इससे हममें इस खेल को खेलने की इच्छा पैदा हुई। जैसे ही मैंने अपने दोस्तों के साथ खेलते हुए इसका आनंद लेना शुरू किया, मैं एक अकादमी में चला गया।

प्रिंस दीप सिंह धीरे-धीरे रैंक में आगे बढ़े और ग्वालियर में हुए 5वें खेलो इंडिया यूथ गेम्स 2022 में पंजाब का प्रतिनिधित्व करने का अवसर मिलने से पहले मध्य प्रदेश में आयोजित दूसरी हॉकी इंडिया जूनियर पुरुष अकादमी नेशनल चैंपियनशिप 2022 में राउंडग्लास पंजाब हॉकी क्लब अकादमी का प्रतिनिधित्व किया। जहां उनकी टीम ने कांस्य पदक जीता।

उन्होंने जून 2023 में राउरकेला, ओडिशा में हुई 13वीं हॉकी इंडिया जूनियर पुरुष राष्ट्रीय चैंपियनशिप में हॉकी पंजाब का भी प्रतिनिधित्व किया। हालाँकि टीम पांचवें स्थान पर रही, प्रिंस दीप ने टूर्नामेंट के दौरान और साल भर अन्य घरेलू टूर्नामेंटों में अपने गोलकीपिंग कौशल से छाप छोड़ी, जिसके परिणामस्वरूप इस साल की शुरुआत में बेंगलुरु में राष्ट्रीय कोचिंग शिविर में उन्हें 40 सदस्यीय जूनियर पुरुष का हिस्सा बनने के लिए तैयार किया गया।

शिविर के दौरान अपने अनुभव को लेकर प्रिंस दीप ने कहा, “मुझे बहुत कुछ सीखने को मिला। देश के सर्वश्रेष्ठ जूनियर खिलाड़ियों में शामिल होने से आप अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना चाहते हैं। मैंने प्रत्येक अभ्यास सत्र के साथ बेहतर होने पर काम किया और इससे इसमें शामिल सभी लोगों को मुझे प्रेरित करने में मदद मिली। हम सभी खिलाड़ी और व्यक्ति दोनों के रूप में एक-दूसरे को अच्छी तरह से जानते हैं। इससे टीम में सकारात्मक माहौल बनाने में काफी मदद मिलती है।''

भारतीय जूनियर पुरुष टीम के यूरोप दौरे से खिलाड़ियों को अपना खेल विकसित करने और यह सीखने में मदद मिलेगी कि सीज़न में उन्हें क्या काम करने की ज़रूरत है। प्रिंस का मानना है कि यह उनके लिए अपने खेल को अगले स्तर पर ले जाने का एक अवसर है।

उन्होंने कहा, “जब आप दूसरे देशों की टीमों के खिलाफ खेलते हैं तो आपको अपना ए-गेम लाना होता है। मैं इसे टीम के साथ-साथ खुद के लिए भी यह पहचानने का एक अवसर मानता हूं कि हम क्या अच्छा कर रहे हैं और खेल में अधिक ऊंचाइयों तक पहुंचने में सक्षम होने के लिए हमें क्या बदलाव करने की जरूरत है। यही इस दौरे का कारण है और मेरा मानना है कि हम इसका पूरा उपयोग करेंगे।''

उन्होंने कहा, “फिलहाल, मैं जूनियर स्तर पर देश के लिए अच्छा प्रदर्शन करना चाहता हूं और जब भी मौका मिले टूर्नामेंट जीतने में हमारी मदद करना चाहता हूं और फिर सीनियर भारतीय पुरुष हॉकी टीम का प्रतिनिधित्व करना चाहता हूं। मैं एक दिन भारत के लिए ओलंपिक में गोल्ड जीतना चाहता हूं। यह मेरा अंतिम सपना है।''

हिन्दुस्थान समाचार/ सुनील

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story