एआईएफएफ ने महिला खिलाड़ियों के साथ कथित तौर पर मारपीट करने वाले अधिकारी को किया निलंबित

एआईएफएफ ने महिला खिलाड़ियों के साथ कथित तौर पर मारपीट करने वाले अधिकारी को किया निलंबित
एआईएफएफ ने महिला खिलाड़ियों के साथ कथित तौर पर मारपीट करने वाले अधिकारी को किया निलंबित


नई दिल्ली, 2 अप्रैल (हि.स.)। अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ (एआईएफएफ) ने मंगलवार को अपनी कार्यकारी समिति के सदस्य दीपक शर्मा को गोवा में दो महिला खिलाड़ियों के साथ कथित तौर पर मारपीट करने के मामले में अगली सूचना तक निलंबित कर दिया है।

भारतीय महिला फुटबॉल (आईडब्ल्यूएल) लीग के दूसरे डिवीजन में भाग ले रही हिमाचल प्रदेश स्थित खाद एफसी की दो फुटबॉल खिलाड़ियों ने आरोप लगाया था कि क्लब के मालिक शर्मा ने 28 मार्च की रात को उनके कमरे में घुसकर उनके साथ मारपीट की थी।

शनिवार को, एआईएफएफ ने शर्मा को उनकी कथित घटना की एक पैनल द्वारा जांच पूरी होने तक फुटबॉल से संबंधित गतिविधियों से दूर रहने के लिए कहा। मेजबान राज्य संघ द्वारा शिकायत दर्ज कराने के बाद शर्मा को गोवा पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया और बाद में जमानत पर रिहा कर दिया गया।

एआईएफएफ ने एक विज्ञप्ति में कहा, एआईएफएफ कार्यकारी समिति ने दीपक शर्मा को अगली सूचना तक फुटबॉल से संबंधित किसी भी गतिविधि में भाग लेने से निलंबित करने का फैसला किया है।

इससे पहले, एआईएफएफ की आपातकालीन समिति जिसमें अध्यक्ष कल्याण चौबे, उपाध्यक्ष एनए हारिस और कोषाध्यक्ष किपा अजय शामिल थे, ने सोमवार को शर्मा के खिलाफ खिलाड़ियों से प्राप्त शिकायतों का जायजा लिया। इसके बाद, सोमवार रात एआईएफएफ सदस्य संघों की एक बैठक हुई और शर्मा को बैठक में कुछ मिनटों के लिए बुलाया गया और उनका पक्ष सुना गया।

सूत्रों के मुताबिक, एआईएफएफ को भेजी गई शिकायत में दोनों खिलाड़ियों ने कहा कि शर्मा नशे की हालत में थे और वे दोनों डर गई थीं।

खेल मंत्री अनुराग ठाकुर ने भी एआईएफएफ से अधिकारी के खिलाफ त्वरित और कड़ी कानूनी कार्रवाई करने को कहा था।

मंगलवार को एआईएफएफ ने घटना की जांच के लिए 30 मार्च को गठित तीन सदस्यीय समिति को भी भंग कर दिया और इसके बजाय मामले को अपनी अनुशासनात्मक समिति को सौंप दिया।

एआईएफएफ अध्यक्ष चौबे ने कहा, एआईएफएफ एक सुरक्षित और सक्षम माहौल में महिला फुटबॉल को बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्ध है और यह सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठाएगा। मामला अब अनुशासन समिति को भेजा गया है और इसपर तत्काल फैसला कड़े कदम उठाए जाएंगे। एआईएफएफ ने शिकायतकर्ताओं को उनके गृहनगर तक सुरक्षित पहुंचाने के लिए सभी आवश्यक कदम उठाए हैं और आवश्यक सहायता प्रदान करना जारी रखेगा।

उन्होंने कहा कि एआईएफएफ उनके अध्यक्ष बनने के बाद से महिला फुटबॉल के विकास में सबसे आगे रहा है।

चौबे ने कहा, वर्तमान में देश में 27,030 पंजीकृत महिला खिलाड़ी हैं, जिनमें से 15,293 सितंबर 2022 और मार्च 2024 के बीच पंजीकृत हैं। विभिन्न आयु समूहों में महिला फुटबॉलरों की संख्या में वृद्धि सबसे उत्साहजनक रुझानों में से एक है।

हिन्दुस्थान समाचार/ सुनील

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story