राजनाथ सिंह ने कैबिनेट मंत्री के तौर पर पद व गोपनीयता की शपथ ली

राजनाथ सिंह ने कैबिनेट मंत्री के तौर पर पद व गोपनीयता की शपथ ली
राजनाथ सिंह ने कैबिनेट मंत्री के तौर पर पद व गोपनीयता की शपथ ली


दिल्ली/लखनऊ, 09 जून (हि.स.)। लखनऊ के सांसद राजनाथ सिंह ने रविवार को मोदी मंत्रिमंडल में कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ ग्रहण की। राजनाथ सिंह तीसरी बार लखनऊ संसदीय सीट से निर्वाचित हुए हैं। मोदी सरकार 2.0 में राजनाथ सिंह के पास रक्षा मंत्रालय की अहम जिम्मेदारी थी। मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में राजनाथ सिंह ने गृह मंत्रालय को बखूबी संभाला था। राजनाथ सिंह ने हिन्दी में पद व गोपनीयता की शपथ ली।

राजनाथ सिंह का जन्म उत्तर प्रदेश के चंदौली जिले के बभोरा गांव में पिता राम बदन सिंह और मां गुजराती देवी के घर हुआ था। उनका जन्म किसान परिवार में हुआ था। उन्होंने अपनी प्राथमिक शिक्षा अपने गांव के एक स्थानीय स्कूल से प्राप्त की और गोरखपुर विश्वविद्यालय से प्रथम श्रेणी के परिणाम प्राप्त करते हुए भौतिकी में मास्टर डिग्री हासिल की। उन्होंने केबी पोस्ट ग्रेजुएट कॉलेज मीरजापुर में भौतिकी के व्याख्याता के रूप में काम किया। उनके भाई का नाम जयपाल सिंह है।

राजनाथ सिंह 1964 में 13 साल की उम्र में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े थे। 1969 और 1971 के बीच वे गोरखपुर में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के संगठनात्मक सचिव थे। वे वर्ष 1972 में मीरजापुर के महासचिव भी बने। 2 वर्ष बाद वर्ष 1974 में वे राजनीति में आए, 1974 में ही उन्हें भारतीय जनसंघ की मीरजापुर इकाई का सचिव नियुक्त किया गया। 1975 में उन्हें जनसंघ का जिलाध्यक्ष नियुक्त किया गया। वर्ष 1975 में राष्ट्रीय आपातकाल के दौरान जेपी आंदोलन से जुड़ने के लिए उन्हें गिरफ्तार भी किया गया था।

जेल से रिहा होने के बाद राजनाथ सिंह जयप्रकाश नारायण द्वारा स्थापित जनता पार्टी में शामिल हो गए और 1977 में मीरजापुर से विधान सभा चुनाव लड़ा। उन्होंने सफलतापूर्वक चुनाव लड़ा और मीरजापुर से विधान सभा के सदस्य के रूप में चुने गए। वह वर्ष 1980 में भाजपा के सदस्य बने और पार्टी के शुरुआती सदस्यों में से एक थे। 1991 में, जब भारतीय जनता पार्टी ने पहली बार उत्तर प्रदेश में अपनी सरकार बनाई, तो उन्हें शिक्षा मंत्री के रूप में नियुक्त किया गया। शिक्षा मंत्री के रूप में उनके कार्यकाल की प्रमुख विशेषताओं में नकल विरोधी अधिनियम-1992 शामिल था, जिसने नकल को गैर-जमानती अपराध बना दिया, विज्ञान के ग्रंथों का आधुनिकीकरण किया और वैदिक गणित को पाठ्यक्रम में शामिल किया।

अप्रैल 1994 में राजनाथ सिंह राज्यसभा के लिए चुने गए। 1999 में वह भूतल परिवहन के केंद्रीय कैबिनेट मंत्री बने। 2000 में वह उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने। वह उस समय अटल बिहारी वाजपेयी के बहुत करीब थे और राज्य के लोगों के बीच उनकी बहुत साफ छवि थी। साल 2002 में उन्होंने दो साल के अंदर ही यूपी के मुख्यमंत्री के पद से इस्तीफा दे दिया क्योंकि उस समय जमीनी परीक्षण (प्लोर टेस्ट) के दौरान भाजपा सरकार अल्पमत में थी। निम्नलिखित कारणों से राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू किया गया था।

2003 में राजनाथ सिंह को अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व वाली सरकार में कृषि मंत्री और बाद में खाद्य प्रसंस्करण के लिए नियुक्त किया गया था। इस अवधि के दौरान उन्होंने किसान कॉल सेंटर और कृषि आय बीमा योजना सहित कुछ युगांतरकारी परियोजनाओं की शुरुआत की। उन्होंने कृषि ऋण पर ब्याज दरों को कम किया और किसान आयोग की स्थापना की और फार्म आय बीमा योजना शुरू की।

मुहम्मद अली जिन्ना पर विवादास्पद बयानों के कारण प्रमुख व्यक्ति लालकृष्ण आडवाणी के इस्तीफे के बाद, वे 31 दिसंबर 2005 को भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष बने, इस पद पर वे 19 दिसंबर 2009 तक रहे। 24 जनवरी 2013 को, वह अपने लिए अध्यक्ष चुने गए। 2013 में नितिन गडकरी के पद छोड़ने के बाद दूसरा कार्यकाल। उन्होंने 2014 के भारतीय आम चुनाव के लिए भाजपा के अभियान में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, जिसमें भाजपा के भीतर विरोध के बावजूद नरेन्द्र मोदी को पार्टी का प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित करना शामिल था। पार्टी की शानदार जीत के बाद, उन्होंने 26 मई 2014 को गृह मंत्री का पद संभालने के लिए पार्टी अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया।

अमित शाह को गृह मंत्रालय दिए जाने के बाद 31 मई 2019 को राजनाथ सिंह भारत के रक्षा मंत्री बने। रक्षा मंत्री होने के बाद उन्होंने भारत की रणनीतिक दृष्टि में एक सूक्ष्म बदलाव का संकेत दिया। मुख्य रूप से राष्ट्र के रक्षा बजट को बढ़ाने पर ध्यान केंद्रित किया और अन्य देशों से हथियारों के आयात को कम करने और देश को हथियार उद्योग के साथ एक हथियार निर्यातक बनाने पर ध्यान केंद्रित किया। उन्होंने यह भी कहा कि 'भारत राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दे में हाथ नहीं डाल सकता। अब समय आ गया है कि भारत को प्रमुख हथियार निर्यातक के रूप में उभरने की जरूरत है।'

परिचय-

नाम: राजनाथ सिंह

उम्र: 73 वर्ष

शिक्षा : एमएससी

दल : भारतीय जनता पार्टी (भाजपा)

हिन्दुस्थान समाचार/डॉ आशीष वशिष्ठ/राजेश/आकाश

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story