जीत की हैट्रिक लगाने वाले अजय टम्टा को फिर मिला इनाम

जीत की हैट्रिक लगाने वाले अजय टम्टा को फिर मिला इनाम
जीत की हैट्रिक लगाने वाले अजय टम्टा को फिर मिला इनाम






































- आरक्षित वर्ग के साथ-साथ सामान्य वर्ग में प्रबल घुसपैठ

- हर वर्गों के चहेतें हैं अल्मोड़ा सांसद अजय टम्टा

देहरादून, 09 जून (हि.स.)। उत्तराखंड के कुमाऊं क्षेत्र में अनुसूचित वर्ग के जिन नेताओं ने राष्ट्रीय स्तर पर अपनी विशिष्ट पहचान बनाई है। उनमें अजय टम्टा का नाम प्रमुख है जिन्होंने तीसरी बार अल्मोड़ा से संसदीय सीट जीती। यूं तो राजनीति में अजय टम्टा मात्र 23 वर्ष की उम्र में आ गए थे। भारतीय जनता युवा मोर्चा से राजनीति प्रारंभ करने वाले अल्मोड़ा के अजय टम्टा ने 52 वर्ष की उम्र में लोकसभा अल्मोड़ा से तीसरी बार जीत का कीर्तिमान बनाया है।

इस संसदीय क्षेत्र से तीसरी बार जीत दर्ज काने वाले अजय टम्टा चौथे ऐसे नेता है जिन्होंने लगातार जीत दर्ज की है। इनसे पहले यह रिकार्ड कांग्रेस के नेता जंग बहादुर बिष्ट, पूर्व सीएम हरीश रावत, भाजपा नेता बची सिंह रावत के नाम था। लगातार तीसरी बार जीत हासिल करने पर अजय टम्टा का राजनीतिक कद बढ़ा है।

उत्तराखंड अल्मोड़ा लोकसभा सीट से 234097 वोटों से जीतकर हैट्रिक लगाने वाले अजय टम्टा का जन्म 16 जुलाई 1972 में अल्मोड़ा में हुआ था। अजय टम्टा के पिता का नाम स्व मनोहर लाल टम्टा एवं माता निर्मला टम्टा हैं, उनके पिता पोस्टल विभाग में अधिकारी थें और मां गृहणी थी। मनोहर लाल टम्टा और निर्मला टम्टा के 6 पुत्र और पुत्री थें, जिसमें अजय टम्टा तीसरे नम्बर के हैं। अजय टम्टा अपने राजनीतिक सफर में सात चुनाव लड़ चुके हैं, जिसमें से छ: चुनावों में विजय हासिल हुई है।

वर्ष 1996 में जिला पंचायत सदस्य के रूप में उनकी राजनीतिक यात्रा की शुरुआत हुई। इसी वर्ष वह जिला पंचायत उपाध्यक्ष चुने गए। वर्ष 1999 से 2000 तक जिला पंचायत अध्यक्ष रहे और तब उन्होंने सबसे कम उम्र का जिपं अध्यक्ष बनने का रिकार्ड बनाया।

अल्मोड़ा लोकसभा सीट से नवनिर्वाचित सांसद अजय टम्टा ने उत्तराखंड अलग होने के पहली बार 2002 में सोमेश्वर विधानसभा का टिकट मांगा। टिकट ना मिलने पर भाजपा से बागी होकर चुनाव लड़े, लेकिन उनकी हार हो गई। 1997 में जिला पंचायत सदस्य एवं जिला पंचायत उपाध्यक्ष, 1999 में जिला पंचायत अध्यक्ष रहने के बाद 2007 में पहली बार सोमेश्वर विधानसभा से विधायक बने।

वर्ष 2009 में उन्हें अल्मोड़ा संसदीय सीट से टिकट दिया गया, लेकिन वह चुनाव हर गए।

2012 से सोमेश्वर विधानसभा से दूसरी बार विधायक बने, 2014 में पहले बार अल्मोड़ा लोकसभा सीट से सांसद , 2016 में केंद्रीय कपड़ा राज्य मंत्री, 2019 में दूसरी बार सांसद और अब 2024 में लगातार तीसरी बार सांसद बनकर अजय टम्टा ने हैट्रिक लगा दीं।

अजय टम्टा ने 1993 में कृषि इंटर कॉलेज दोफाड़ से इंटरमीडिएट की परीक्षा उत्तीर्ण की थी और फिर सक्रिय राजनीति में आ गए थें, जिसके कारण स्नातक की पढ़ाई नहीं कर पाए थें। लेकिन कोविड 19 के दौरान 2020 में 50 वर्ष की उम्र में अजय टम्टा ने स्वामी विवेकानंद सुभारती विश्वविद्यालय मेरठ यूपी से बीए की पढ़ाई शुरू की थीं और उनकी मेहनत रंग लाई 2023 में स्नातक की पढ़ाई पूरी कर ली। तीसरी बार जीत के बाद जहां अजय टम्टा का कद राजनीति और संगठन में और बढ़ा है, वहीं उनकी सादगी और सौम्य व्यवहार लोगों के लिए आकर्षण का केन्द्र रहता है। टम्टा उत्तराखंड सरकार में मंत्री भी रह चुके हैं।

मोदी सरकार 1.0 में अजय टम्टा हिस्सा बने। फिर मोदी सरकार 3.0 में आज मंत्रिमंडल में राज्य मंत्री के रूप में जगह मिली।

हिन्दुस्थान समाचार / राजेश/प्रभात

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story