मकर संक्रान्ति पर होगी भगवान राम के मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा : चम्पत राय



प्रयागराज, 25 जनवरी (हि.स.)। विश्व हिंदू परिषद माघ मेला शिविर में आयोजित संत सम्मेलन के दौरान श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महामंत्री चंपत राय ने घोषणा किया कि अगले मकर संक्रांति पर श्रीराम जन्मभूमि पर मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान राम के मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा होगी।

बुधवार को आयोजित संत सम्मेलन में उन्होंने अगले वर्ष मकर संक्रांति से माघ मेला शुरू होने के बीच का जो समय होगा उस पर संतों को अयोध्या आने का आग्रह किया है। उन्होंने कहा कि इस बसंत पंचमी से लेकर एक वर्ष तक अयोध्या में रविवार को सूर्य उपासना, सूर्य आदित्य, हृदय स्त्रोत, सोमवार को रुद्राभिषेक, मंगलवार को हनुमान चालीसा, बुधवार को गणपति अथर्व शीर्ष का पाठ, एकादशी को विष्णु सहस्त्रनाम से आहुति गुप्त एवं चैत्र नवरात्र में सतचंडी का पाठ चलता रहेगा।

चम्पत राय ने आगे कहा कि यह प्रयाग की वही पावन भूमि है जहां पर विश्व हिंदू परिषद की स्थापना के बाद से आज तक हिंदू समाज के सारे विषय के चिंतन और निर्णय इसी धरा पर हुए हैं। 1966 से लेकर आज तक संत इसी पुण्य भूमि पर हिंदू समाज का मार्गदर्शन करते रहे हैं। इसी भूमि से विश्व हिंदू परिषद का संविधान स्वीकार किया गया और जो हमसे भूले भटके छीन लिए गए उनको स्वीकार करके ऐसे समाज को अपने पूर्वजों की जड़ों से जोड़ने का कार्य हम 1966 से लगातार कर रहे हैं।

संत सम्मेलन में प्रमुख रूप से विहिप के केंद्रीय मंत्री रासबिहारी, केंद्रीय धर्माचार्य संपर्क प्रमुख जीवेश्वर मिश्र, क्षेत्रीय संगठन मंत्री पूर्वी उत्तर प्रदेश गजेंद्र, प्रांत अध्यक्ष केपी सिंह, प्रांत संगठन मंत्री मुकेश, प्रांत सह संगठन मंत्री नितिन, प्रांत उपाध्यक्ष विमल प्रकाश सहित अनेक पदाधिकारी उपस्थित रहे।

सम्मेलन के प्रारंभ में अखिल भारतीय संत संपर्क प्रमुख अशोक तिवारी ने प्रस्तावना रखी। उन्होंने कहा हिंदू समाज के समक्ष अस्तित्व पर संकट के बादल बने हुए हैं और संतों का मार्गदर्शन मांगा। हिंदू समाज को हिंदू धर्म संस्कृति के लिए आज के समकालीन विषयों पर हिंदू समाज को मार्गदर्शन करने का निवेदन किया और उन्होंने पूरे कार्यक्रम का संचालन किया।

हिन्दुस्थान समाचार/विद्या कान्त

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story