पाकिस्तानी अखबारों सेः बिजली का ब्रेकडाउन बना लीड समाचार, आर्थिक बदहाली की खबरें भी छाईं



- पंजाब के केयरटेकर सीएम की नियुक्ति और पीटीआई सदस्यों के इस्तीफों पर छिड़ी जुबानी जंग

नई दिल्ली, 24 जनवरी (हि.स.)। पाकिस्तान से मंगलवार को प्रकाशित अधिकांश समाचारपत्रों ने बड़ा बिजली ब्रेकडाउन होने की खबर देते हुए बताया कि देशभर में 18 घंटे से भी अधिक समय तक बिजली गुल रही। नागरिकों को इसकी वजह से तमाम तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ा है। पानी, मोबाइल, मेट्रो ट्रेन बंद हो गई। इससे 80 अरब रुपये के नुकसान का दावा किया जा रहा है। प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ ने एक कमेटी का गठन कर जांच के आदेश दिए हैं।

अखबारों ने बिजली गुल होने पर सोशल मीडिया पर तरह-तरह की टिप्पणी की खबरें देते हुए बताया है कि कुछ लोगों ने यह भी कहा है कि आईएमएफ की क़िस्त नहीं देने की वजह से बिजली गुल हो गई है। अखबारों ने गवर्नर स्टेट बैंक का एक बयान छापा है जिसमें उन्होंने कहा है कि ब्याज दर 16 से बढ़ाकर 17 प्रतिशत तय कर दी गई है। 25 साल में यह सबसे उच्च स्तर पर पहुंच गई है। महंगाई में बदस्तूर वृद्धि दर्ज की जा रही है। अखबारों ने पाकिस्तान में महंगाई की मार की खबर देते हुए बताया है कि ऑल बलूचिस्तान तंदूर एसोसिएशन ने रोटी की कीमत 30 रुपये करने का फैसला लिया है। अखबारों ने ऑयल कंपनियों के जरिए पेट्रोल का भंडार खत्म होने की खबरें भी दी हैं। सूत्रों का कहना है कि इस सिलसिले में 19 जनवरी को गवर्नर स्टेट बैंक को एलसीज खोलने के लिए खत लिखा गया था।

अखबारों ने प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ का एक बयान छापा है, जिसमें उन्होंने चुनाव आयोग का बचाव करते हुए कहा है कि पंजाब में केयरटेकर मुख्यमंत्री की नियुक्ति का फैसला कानून और संविधान के अनुसार किया गया है। अखबारों ने पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान का एक बयान छापा है जिसमें उन्होंने कहा है कि पंजाब के केयरटेकर मुख्यमंत्री मोहसिन नकवी की नियुक्ति पर देशभर में धरना प्रदर्शन किया जाएगा। आज लाहौर में और कल रावलपिंडी में धरना प्रदर्शन किया जाएगा।

अखबारों ने पूर्व गृहमंत्री शेख रशीद का एक बयान छापा है, जिसमें उन्होंने कहा है कि इलेक्शन कमीशन ने पंजाब में केयरटेकर मुख्यमंत्री की नियुक्ति करके दूध की रखवाली के लिए बिल्ला को बैठा दिया है। अखबारों ने रक्षा मंत्री ख्वाजा आसिफ का एक बयान छापा है, जिसमें उन्होंने कहा है कि पीटीआई वालों ने पहले त्यागपत्र दिया। अब असेंबली में वापस आने के लिए उतावले हो रहे हैं। अखबारों ने पीटीआई के 45 नेशनल असेंबली के सदस्यों के जरिए अपने त्यागपत्र वापस लिए जाने की खबरें देते हुए बताया है कि उन्हें सदन में घुसने नहीं दिया गया जिसकी वजह से उन्होंने जोरदार हंगामा किया है।

अखबारों ने कुरान के अपमान पर स्वीडन के प्रधानमंत्री का एक बयान छापा है, जिसमें उन्होंने इसके लिए दुख व्यक्त किया है। उनका कहना है कि अभिव्यक्ति की आजादी का जिम्मेदाराना तरीके से इस्तेमाल किया जाना चाहिए। यह सभी खबरें रोजनामा पाकिस्तान, रोजनामा नवाएवक्त, रोजनामा खबरें, रोजनामा दुनिया, रोजनामा एक्सप्रेस, रोजनामा जंग और रोजनामा औसाफ आदि के पहले पन्ने पर प्रकाशित हुई हैं।

खबरें हिन्दुस्तान की

रोजनामा नवाएवक्त ने तमिलनाडु में एक मंदिर में मूर्तियां स्थापित करने के लिए आयोजित समारोह में क्रेन पलट जाने से 4 लोगों की मौत की खबर को प्रकाशित किया है। मूर्ति को स्थापित करने के लिए लाई गईं कई फिट ऊंची क्रेन अस्थिर होने से पलट गई और उसके नीचे लोग दब गए। पुलिस ने क्रेन ऑपरेटर को हिरासत में ले लिया है। पुलिस ने बताया है कि इस समारोह के दौरान निजी क्रेन को इस्तेमाल करने की मंदिर प्रशासन को अनुमति नहीं दी गई थी।

रोजनामा एक्सप्रेस ने गणतंत्र दिवस समारोह के उपलक्ष्य में जम्मू-कश्मीर में सेना और अर्धसैनिक बलों की जगह-जगह तलाशी और छापेमारी की कार्रवाई किए जाने की खबर दी है। अखबार का कहना है कि दौरान पूरे घाटी को छावनी में बदल दिया गया है। एक युवक को गिरफ्तार भी किया गया है। युवक पर आतंकवादी गतिविधियों में संलिप्त होने का आरोप लगाया गया है।

हिन्दुस्थान समाचार/ एम ओवैस

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story