भारत-मिस्र द्विपक्षीय सहयोग रणनीतिक साझेदारी तक ले जाने के साथ पांच करार पर हस्ताक्षर



नई दिल्ली, 25 जनवरी (हि.स.)। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और मिस्र के राष्ट्रपति अब्देल फतह अल-सिसी ने बुधवार द्विपक्षीय और प्रतिनिधिमंडल स्तर की वार्ता की। इस दौरान दोनों देशों ने आपसी संबंधों को रणनीतिक साझेदारी के स्तर तक ले जाने का फैसला किया। भारत-मिस्र ने अगले पांच वर्षों में द्विपक्षीय व्यापार को 12 बिलियन अमेरिकी डॉलर तक ले जाने का निर्णय भी लिया। दोनों देशों के बीच पांच करार पर हस्ताक्षर किए गए। दोनों देश द्विपक्षीय राजनयिक संबंधों की स्थापना के 75 वर्षों के उत्सव भी मना रहे हैं। इस अवसर को चिन्हित करने के लिए एक डाक टिकट भी जारी किया।

प्रधानमंत्री और मेहमान नेता की दिल्ली के हैदराबाद हाउस में मुलाकात हुई। इसके बाद दोनों नेताओं ने अपने प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व करते हुए वार्ता की। इस दौरान राजनीतिक और सुरक्षा सहयोग, आर्थिक जुड़ाव और वैज्ञानिक सहयोग, सांस्कृतिक और लोगों से लोगों के संपर्क तथा क्षेत्रीय और वैश्विक विकास पर चर्चा की गई। दोनों पक्षों ने बहुपक्षीय मंचों, विशेष रूप से जी20 में सहयोग पर भी चर्चा की। मिस्र जी20 में अतिथि देश के रूप में शामिल होने वाला है। इस दौरान मिस्र विकासशील देशों से जुड़ी भारत की पहल वायस ऑफ ग्लोबल साउथ को जी20 चर्चाओं में ले जाने के भारत के प्रयास में शामिल होगा।

द्विपक्षीय वार्ता के बाद दोनों नेताओं ने हैदराबाद हाउस में संयुक्त प्रेस वक्तव्य दिया। इसमें प्रधानमंत्री ने राजनीतिक, सुरक्षा, रक्षा, ऊर्जा और आर्थिक क्षेत्रों को शामिल करते हुए रणनीतिक साझेदारी के लिए भारत-मिस्र संबंध के उन्नयन की घोषणा की। दोनों नेताओं की उपस्थिति में भारत और मिस्र ने साइबर सुरक्षा, संस्कृति, सूचना प्रौद्योगिकी, युवा मामलों पर सहयोग और प्रसारण के क्षेत्र में समझौता ज्ञापनों का आदान-प्रदान किया।

प्रधानमंत्री मोदी और मिस्र के राष्ट्रपति अब्देल फतह अल-सिसी राजनयिक संबंधों के 75 साल पूरे होने के उपलक्ष्य में दोनों देशों के बीच डाक टिकटों के आदान-प्रदान के भी साक्षी बने। स्मारक डाक टिकट का आदान-प्रदान रेल, संचार और इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना-प्रौद्योगिकी मंत्री अश्विनी वैष्णव और मिस्र के संचार एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री डॉ. अम्र अहमद समिह तलत के बीच हुआ।

अपने वक्तव्य में राष्ट्रपति सिसी ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कार्यों की प्रशंसा की और उन्हें द्विपक्षीय संबंधों को आगे ले जाने के लिए काहिरा (मिस्र) आने का न्यौता दिया। उन्होंने बताया कि वार्ता के दौरान आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई और जलवायु परिवर्तन से जुड़े कॉप-27 पर चर्चा हुई। सुरक्षा सहयोग, हरित हाइड्रोजन और नवीकरणीय ऊर्जा, पर्यटन को बढ़ावे के लिए कनेक्टिविटी के मुद्दे सहित सहयोग के विभिन्न क्षेत्रों पर चर्चा की।

हिन्दुस्थान समाचार/अनूप

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story