मुख्यमंत्री शिवराज का दिग्विजय के बयान पर पलटवार, कहा- कांग्रेस का डीएनए ही पाकिस्तान परस्ती का



भोपाल, 24 जनवरी (हि.स.)। मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह द्वारा पुलवामा और सर्जिकल स्ट्राइक पर दिए गए बयान पर मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पलटवार किया है। उन्होंने कहा है कि कांग्रेस का डीएनए ही पाकिस्तान परस्त है। कांग्रेस नेताओं के बयान सेना का मनोबल गिराने के लिए हैं। इसके अलावा मुख्यमंत्री चौहान ने कमलनाथ और कांग्रेस पर भी जमकर निशाना साधा है।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंगलवार को स्मार्ट सिटी उद्यान में पौधारोपण करने के बाद मीडिया से बातचीत करते हुए दिग्विजय सिंह द्वारा सबूत मांगने पर पलटवार करते हुए कहा कि कांग्रेस के नेता कभी राम के अस्तित्व के सबूत मांगते हैं, कभी सर्जिकल स्ट्राइक के सबूत मांगते हैं। कभी रामसेतु के अस्तित्व के सबूत मांगते हैं।

मुख्यमंत्री शिवराज ने कहा कि सेना का मनोबल गिराने का पाप कांग्रेस पार्टी कर रही है। पाकिस्तान के साथ वह खड़े हैं, ये दिख रहा है। मैं तो राहुल गांधी से जवाब मांगना चाहता हूं, यह कैसी भारत जोड़ो यात्रा है, टुकड़े टुकड़े गैंग आपके साथ चल रही है । सेना का मनोबल गिराया जा रहा है। राहुल गांधी भी सवाल उठा रहे हैं कि सेना कमजोर हो गई है यह कैसी देश भक्ति है। मुख्यमंत्री ने दिग्विजय सिंह के शासनकाल की याद दिलाते हुए कहा कि दिग्विजय सिंह के शासन में मध्य प्रदेश सिमी का गढ़ बन गया था।

कमलनाथ पर साधा निशाना

इस दौरान मुख्यमंत्री चौहान ने पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ पर भी जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि कमलनाथ ने सरकार रहते हुए आदिवासी हित में क्या काम किए। कांग्रेस ने वचन पत्र में ऐलान किया था कि 50 फीसदी ब्लॉक आदिवासी बनाए जाएंगे। जिला स्तरीय समिति बनाई जाएगी लेकिन इसके लिए सरकार ने कोई कदम क्यों नहीं उठाया। उस पर अमल क्यों नहीं किया। मुख्यमंत्री ने कांग्रेस के वचन पत्र को ढोंग करार देते हुए कहा भाजपा सरकार ने आदिवासियों के नाम और महापुरुषों पर कई फैसले किए हैं। उन्होंने पूछा कि भाजपा सरकार में विशेष पिछड़ी जातियों बैगा, सहरिया को एक हजार रुपये की राशि दी जाती थी उसे तत्कालीन कमलनाथ सरकार ने बंद क्यों किया।

हिन्दुस्थान समाचार/ नेहा पाण्डेय/मयंक चतुर्वेदी

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story