इतिहास के पन्नों में 04 अप्रैलः माइक्रोसॉफ्ट हो गया 49 साल का

इतिहास के पन्नों में 04 अप्रैलः माइक्रोसॉफ्ट हो गया 49 साल का
इतिहास के पन्नों में 04 अप्रैलः माइक्रोसॉफ्ट हो गया 49 साल का


देश-दुनिया के इतिहास में 04 अप्रैल की तारीख तमाम अहम वजह से दर्ज है। यह तारीख बिल गेट्स के लिए खास है। आज माइक्रोसॉफ्ट और उसके फाउंडर बिल गेट्स को कौन नहीं जानता? दुनिया के एक अरब से ज्यादा डिवाइस विंडोज-10 पर चल रहे हैं। यह माइक्रोसॉफ्ट की लेटेस्ट पेशकश में से एक है। माइक्रोसॉफ्ट एक ऐसी कंपनी है, जिसने पूरी दुनिया में कंप्यूटर की लोकप्रियता बढ़ाने का काम किया। इसकी स्थापना 04 अप्रैल 1975 को हुई थी। तब ज्यादातर अमेरिकी टाइपराइटर्स का इस्तेमाल करते थे। बचपन के दो दोस्तों बिल गेट्स और पॉल एलन ने माइक्रोसॉफ्ट बनाई, जो कंप्यूटर सॉफ्टवेयर बनाती है। 1979 में न्यू मैक्सिको से माइक्रोसॉफ्ट वॉशिंगटन स्टेट में शिफ्ट हुई और वहीं पर एक बड़ी मल्टीनेशनल टेक्नोलॉजी कॉर्पोरेशन के तौर पर उभरी। 1987 में माइक्रोसॉफ्ट ने शेयर निकाले और 31 साल के गेट्स दुनिया के सबसे युवा अरबपति बन गए।

गेट्स और एलन ने जब माइक्रोसॉफ्ट शुरू की तो इसे माइक्रो-सॉफ्ट कहा यानी माइक्रोप्रोसेसर्स और सॉफ्टवेयर के शुरुआती शब्दों का जोड़ा। उस समय शुरुआती पर्सनल कंप्यूटर अल्टएयर 8800 के लिए सॉफ्टवेयर बनाए थे। एलन ने बोस्टन में प्रोग्रामर की नौकरी और गेट्स ने हार्वर्ड यूनिवर्सिटी में पढ़ाई छोड़कर नई कंपनी बनाने पर फोकस किया था। उस समय न्यू मैक्सिको में ही अल्टएयर 8800 के निर्माता एमआईटीएस का कामकाज था, जहां माइक्रोसॉफ्ट ने काम शुरू किया था। 1978 के अंत तक माइक्रोसॉफ्ट की सेल्स एक मिलियन डॉलर से अधिक हो गई और 1979 में कंपनी वॉशिंगटन पहुंच गई।

1985 में माइक्रोसॉफ्ट ने एक नया ऑपरेटिंग सिस्टम लॉन्च किया- विंडोज। इसमें ग्राफिकल इंटरफेस था, जिसमें ड्रॉप-डाउन मीनू और अन्य फीचर शामिल थे। अगले ही साल कंपनी का हेडक्वार्टर रेडमंड, वॉशिंगटन में शिफ्ट हुआ। 1980 के दशक में माइक्रोसॉफ्ट सेल्स के लिहाज से दुनिया की सबसे बड़ी पर्सनल कंप्यूटर सॉफ्टवेयर कंपनी बनी।1995 के बाद घर और दफ्तरों में पर्सनल कंप्यूटरों का इस्तेमाल तेजी से बढ़ा और इसी दौरान विंडोज 95 भी लॉन्च हुआ। इसमें स्टार्ट मीनू पहली बार आया और 7 मिलियन कॉपी सिर्फ शुरुआती पांच हफ्ते में बिक गई। 1990 के दशक के दूसरे हिस्से में इंटरनेट का इस्तेमाल बढ़ा। तब 1995 में माइक्रोसॉफ्ट ने इंटरनेट एक्सप्लोरर के नाम से अपना ब्राउजर लॉन्च किया था।

महत्वपूर्ण घटनाचक्र

1818ः अमेरिकी कांग्रेस ने राष्ट्रध्वज में 13 लाल और सफेद स्ट्रिप्स तथा 20 सितारे शामिल किए।

1858ः ह्ययूज रोज के नेतृत्व में ब्रिटिश सेना के साथ युद्ध करने के बाद रानी लक्ष्मीबाई झांसी से निकलकर काल्पी पहुंची और बाद में ग्वालियर की ओर चली गईं।

1905ः कांगड़ा घाटी में आए भूकंप में 20,000 लोगों की जान गई।

1949ः उत्तरी अटलांटिक सैन्य संगठन (नाटो) की स्थापना।

1968ः मानवाधिकार कार्यकर्ता मार्टिन लूथर किंग जूनियर की हत्या जेम्स अर्ल रे ने की। रे को 99 साल की जेल की सजा हुई और उसने 1998 में जेल में ही दम तोड़ा।

1969ः मरीज हास्केल कार्प को आर्टिफिशियल हार्ट लगाया गया।

1979ः पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री जुल्फिकार अली भुट्टो को फ़ांसी।

1994ः तिब्बती धर्मगुरु दलाई लामा ने उग्येन थिनली दोरजी की नए कर्मापा के रूप में घोषणा की।

1997ः क्रयशक्ति की क्षमता की दृष्टि से विश्व बैंक ने भारत को विश्व की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था वाला देश घोषित किया।

2001ः चीन का अमेरिका विमान व चालक दल लौटाने से इनकार।

2004ः भारत-नेपाल की अंतरराष्ट्रीय सीमा पर माओवादियों ने 18 भारतीय तेल टैंकरों में आग लगाई।

2006ः इराक के अपदस्थ राष्ट्रपति सद्दाम हुसैन पर नए आरोप लगे।

2008ः पाकिस्तान की नई सरकार ने सेना के खुफिया प्रमुख के पद से मेजर जनरल नदीम को हटाया।

2010ः माओवादियों की कोरापुट जिले में बिछाई गई बारुदी सुरंग में विस्फोट। 10 सुरक्षाकर्मियों की मौत।

जन्म

1889ः हिन्दी भाषा के कवि, लेखक, पत्रकार माखन लाल चतुर्वेदी।

1905ः मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के नेता नृपेन चक्रबर्ती।

1908ः भारतीय संविधान सभा की एकमात्र मुस्लिम महिला सदस्य बेगम ऐजाज रसूल।

1915ः भारत के महान क्रांतिकारी असित भट्टाचार्य।

1933ः पूर्व भारतीय क्रिकेटर बापू नादकर्णी।

1949ः अभिनेत्री परवीन बॉबी।

1969ः फिल्म और टेलीविजन अभिनेत्री पल्लवी जोशी।

निधन

1924ः उड़िया भाषा के कवि गंगाधर मेहरे।

1987ः हिन्दी के सुप्रसिद्ध साहित्यकार सच्चिदानंद हीरानन्द वात्स्यायन अज्ञेय।

1995ः भारत की स्वतंत्रता सेनानी हंसा मेहता।

2021ः गुजरात के प्रसिद्ध कवि खलील धनतेजवि।

हिन्दुस्थान समाचार/मुकुंद

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story