रूस की जेल में बंद अमेरिकी पत्रकार की गिरफ्तारी की अवधि बढ़ाई



मॉस्को, 27 मार्च (हि. स.)। मॉस्को की एक अदालत ने एक साल पहले गिरफ्तार किए गए वॉल स्ट्रीट जर्नल के पत्रकार इवान गर्शकोविच को कम से कम 30 जून तक जेल में रखने का आदेश दिया। उन्हें जासूसी के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। अदालत के अधिकारियों ने यह जानकारी दी।

अमेरिका के 32 वर्षीय नागरिक को रिपोर्टिंग के सिलसिले में की गई यात्रा के दौरान साल 2023 में मार्च के आखिर में गिरफ्तार किया गया था। वह लगभग एक साल से जेल में हैं और अब अदालत ने 30 जून तक उनकी गिरफ्तारी की अवधि बढ़ा दी है। गर्शकोविच और उनके नियोक्ता ने आरोपों को खारिज कर दिया। अमेरिकी सरकार ने भी कहा कि उन्हें गलत तरीके से गिरफ्तार किया गया है। रूस के एकातेरिनबर्ग शहर में उनको गिरफ्तार किया गया था, लेकिन अधिकारियों ने यह नहीं बताया था कि जासूसी के आरोप में गिरफ्तार किए गए पत्रकार के खिलाफ यदि कोई सबूत है तो वह क्या है।

मॉस्को की लेफोतोर्वा जेल में गर्शकोविच को रखा गया है, जो अपनी कठोर परिस्थितियों के लिए कुख्यात है। विश्लेषकों ने बताया कि यूक्रेन के खिलाफ सैन्य अभियान से वाशिंगटन और मास्को के बीच उपजे तनाव के चलते रूस अपने यहां जेल में बंद अमेरिकियों को सौदेबाजी के साधन के रूप में इस्तेमाल कर सकता है। रूस ने हाल ही में अमेरिका के दो नागरिकों को गिरफ्तार किया था, जिसमें डब्ल्यूएनबीए स्टार ब्रिटनी ग्रिनर भी शामिल हैं।

गर्शकोविच सितंबर 1986 के बाद से रूस में जासूसी के आरोप में गिरफ्तार होने वाले पहले अमेरिकी पत्रकार हैं। 1986 में यूएस न्यूज और वर्ल्ड रिपोर्ट के मॉस्को संवाददाता निकोलस डैनिलॉफ को केजीबी ने गिरफ्तार किया था। 20 दिन बाद उन्हें संयुक्त राष्ट्र मिशन में सोवियत संघ के एक कर्मचारी की रिहाई के बदले छोड़ा गया था। इस कर्मचारी को एफबीआई ने जासूसी के आरोप में गिरफ्तार किया था।

हिन्दुस्थान समाचार/ अजीत तिवारी/प्रभात

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story