गाजा में घुसी इजराइली सेना, बख्तरबंद टैंक और बुलडोजर से हाइवे बाधित

गाजा में घुसी इजराइली सेना, बख्तरबंद टैंक और बुलडोजर से हाइवे बाधित


गाजा पट्टी, 30 अक्टूबर (हि.स.)। इजराइली सेना और इसके बख्तरबंद वाहन सोमवार को उत्तरी गाजा पट्टी के अंदरूनी इलाकों तक पहुंच गए जिसके बाद इजराइली सेना और हमास के बीच भीषण झड़प हो रही है। वहीं संयुक्त राष्ट्र और चिकित्साकर्मियों ने कहा कि अस्पतालों के नजदीक हवाई हमले किए गए हैं जहां हजारों घायलों के साथ ही हजारों फिलिस्तीनी नागरिकों ने शरण ले रखी है।

सेना ने सोमवार को कहा कि उसके सैनिकों ने रात भर में इमारतों और सुरंगों के भीतर से हमला करने वाले कई आतंकवादियों को मार गिराया और हवाई हमलों में एक इमारत को ध्वस्त कर दिया गया जिसका इस्तेमाल हमास कर रहा था।

सोशल मीडिया पर जारी वीडियो में मध्य गाजा में एक इजराइली टैंक और बुलडोजर क्षेत्र के मुख्य उत्तर-दक्षिण राजमार्ग को अवरुद्ध करते दिखते हैं, जिसे इजराइली सेना ने फिलिस्तीनियों को बढ़ते जमीनी हमले से बचने की खातिर उपयोग करने के लिए कहा था। यदि सडक़ अवरुद्ध हो गई तो उत्तर में रहने वाले हजारों फिलिस्तीनी अब बचने के लिए अन्यत्र नहीं जा पाएंगे क्योंकि यह दक्षिण जाने के लिए उपयोग करने योग्य एकमात्र मार्ग है।

यह पूछे जाने पर कि क्या सेना सड़क पर तैनात है, इजराइली सैन्य प्रवक्ता रियर एडमिरल डैनियल हगारी ने कहा, हमने अपने अभियान का विस्तार किया है। लेकिन उन्होंने विशिष्ट तैनाती पर कोई टिप्पणी नहीं की।

एक स्थानीय पत्रकार द्वारा बनाए गए वीडियो में एक कार सडक़ पर एक अवरोधक की ओर आती दिखती है। कार रुकती है और वापस लौटने लगती है। जैसे ही कार आगे बढ़ती है, एक टैंक गोला दागता प्रतीत होता है और कार विस्फोट की चपेट में आ जाती है। दूसरी कार में मौजूद पत्रकार भागता है तथा उधर आ रही एम्बुलेंस और अन्य वाहनों को देखकर चिल्लाता है, ‘वापस जाओ- वापस जाओ’

गाजा स्वास्थ्य मंत्रालय ने बाद में कहा कि जिस कार को निशाना बनाया गया उसमें तीन लोग मारे गए। उग्रवादी संगठन हमास ने सोमवार को एक वीडियो जारी किया जिसमें सात अक्टूबर को इजऱाइल के अंदर हमले के दौरान बंधक बनाई गईं तीन महिलाओं को दिखाया गया। महिलाओं में से एक ने संभवत: दबाव में बंधक संकट पर इजऱाइल की प्रतिक्रिया की आलोचना करते हुए एक संक्षिप्त बयान दिया।

हमास और अन्य आतंकवादियों ने इजराइल के अंदर घातक हमले के दौरान लगभग 240 लोगों को बंधक बना लिया था। उन्होंने कहा कि वे इजऱाइल द्वारा पकड़े गए हजारों फलस्तीनी कैदियों के बदले में उन्हें रिहा कर देंगे। इजराइल ने इस प्रस्ताव को खारिज कर दिया है।

इजऱाइल ने गाजा शहर के दोनों किनारों और उत्तरी गाजा के आसपास के इलाकों में अपने सैन्य बल तैनात कर दिए हैं। प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने इसे युद्ध का दूसरा चरण कहा। यदि इजराइली सेना अपने जमीनी अभियान का विस्तार करती है और घने आवासीय क्षेत्रों में फलस्तीनी आतंकवादियों से जूझती है, तो दोनों पक्षों की ओर से हताहतों की संख्या में काफी वृद्धि होगी।

हालांकि इजऱाइल ने फ़लस्तीनियों को उत्तर से, जहां गाजा शहर स्थित है, दक्षिण की ओर जाने का आदेश दिया, लेकिन हज़ारों लोग वहीं रह गए हैं क्योंकि इजऱाइल ने तथाकथित सुरक्षित क्षेत्रों पर भी बमबारी की है। संयुक्त राष्ट्र के आंकड़ों के अनुसार, हमलों से सुरक्षित रहने की उम्मीद कर रहे लगभग 1,17,000 विस्थापित लोग हजारों मरीजों और कर्मचारियों के साथ उत्तरी गाजा के अस्पतालों में रह रहे हैं।

गाजा स्वास्थ्य मंत्रालय ने सोमवार को कहा कि मरने वाले फलस्तीनियों की संख्या 8,300 से अधिक हो गई है, जिनमें ज्यादातर महिलाएं और बच्चे हैं। गाजा में 14 लाख से अधिक लोग अपना घर छोडक़र भाग गए हैं।

इजऱाइल के 1,400 से अधिक लोग मारे गए हैं। इनमें से ज्यादातर हमास के शुरुआती हमले के दौरान मारे गए। यह भी एक अभूतपूर्व आंकड़ा है। ऐसा प्रतीत होता है कि इजराइली सैनिक उत्तरी गाजा में अंदरूनी इलाकों तक घुस गए हैं। सेना द्वारा सोमवार को जारी वीडियो में बख्तरबंद वाहनों को इमारतों के बीच से गुजरते हुए और सैनिकों को एक मकान के भीतर कमान संभालते हुए देखा गया।

जमीनी आक्रमण में यह तेजी तब आई है जब एक दिन पहले खाद्य सामग्री, दवा और अन्य सामान लेकर 33 ट्रकों ने मिस्र से गाजा में प्रवेश किया। इजराइल अैर हमास के बीच युद्ध शुरू होने के बाद से मानवीय सहायता की यह सबसे बड़ी खेप है। राहतकर्मियों ने सोमवार को कहा कि यह सहायता गाजा में आवश्यकता से बहुत कम है।

सेना ने सोमवार को कहा कि उसके सैनिकों ने रात भर में इमारतों और सुरंगों के भीतर से हमला करने वाले कई आतंकवादियों को मार गिराया और हवाई हमलों में एक इमारत को ध्वस्त कर दिया गया जिसका इस्तेमाल हमास कर रहा था।

इसने कहा कि पिछले कुछ दिनों में उसने आतंकवादियों के 600 से अधिक ठिकानों को निशाना बनाया है जिसमें हथियार डिपो और टैंक विध्वंसक मिसाइल के स्थल भी शामिल हैं। इन खबरों की स्वतंत्र रूप से पुष्टि नहीं की जा सकी है। हमास की सैन्य शाखा ने बताया कि उसके लड़ाकों की उत्तर-पश्चिमी गाजा पट्टी में घुसने वाले इजराइली सैनिकों से झड़प हुई। फिलिस्तीनी आतंकवादी तेल अवीव समेत इजराइल में अब भी रॉकेट हमले कर रहे हैं।

फिलिस्तीन के शरणार्थियों को मानवीय सहायता पहुंचाने के काम में लगी संयुक्त राष्ट्र की एजेंसी ने शनिवार को कहा कि हजारों लोग आटा और रोजर्मा की जरूरत की अन्य वस्तुएं लेने के लिए गाजा में राहत सहायता गोदामों पर टूट पड़े।

इस बीच, उत्तरी गाजा में खचाखच भरे अस्पतालों पर खतरा बढ़ता जा रहा है। संयुक्त राष्ट्र ने सोमवार को कहा कि हाल के दिनों में गाजा शहर के शिफा और अल-कुद्स अस्पतालों और उत्तरी गाजा में इंडोनेशियाई अस्पताल के पास हवाई हमले किए गए।

संयुक्त राष्ट्र के मानवीय मामलों के समन्वय संबंधी कार्यालय ने बताया कि उत्तरी गाजा में संचालित 10 अस्पतालों को हाल के दिनों में जगह खाली करने का आदेश मिला है। हजारों मरीजों और कर्मियों के साथ करीब 1,17,000 विस्थापित लोग इन अस्पतालों में रह रहे हैं।

इजराइल ने हमास पर अस्पताल के नीचे एक गुप्त कमांड पोस्ट बनाने का आरोप लगाया है लेकिन इसके समर्थन में ज्यादा सबूत उपलब्ध नहीं कराए हैं। हमास इन आरोपों से इनकार करता है। इजराइल ने खान यूनिस में रविवार को दो मंजिला मकान पर हवाई हमला किया जिसमें एक ही परिवार के 10 सदस्यों समेत कम से कम 13 लोगों की मौत हो गई।

इजराइली सेना ने सोमवार को तड़के कहा कि उसके विमान ने सीरिया की ओर से रॉकेट दागे जाने के बाद वहां सैन्य बुनियादी ढांचे को निशाना बनाया। इजऱाइल ने कहा कि वेस्ट बैंक में उसके युद्धक विमानों ने सोमवार को जेनिन शरणार्थी शिविर में उसकी सेना के साथ संघर्ष कर रहे आतंकवादियों के खिलाफ हवाई हमले किए। इस क्षेत्र में बार-बार इजराइली हमले होते रहे हैं। हमास ने कहा कि उसके चार लड़ाके वहां मारे गए। संयुक्त राष्ट्र ने कहा कि रविवार तक वेस्ट बैंक में 33 बच्चों सहित 115 फिलिस्तीनी मारे गए जिनमें से आधे तलाशी और गिरफ्तारी अभियान के दौरान मारे गए।

हिन्दुस्थान समाचार/अजीत/प्रभात

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story