इजरायल ने गाजा में शुरू किया जमीनी अभियान, संचार ब्लैकआउट में दी ढील

इजरायल ने गाजा में शुरू किया जमीनी अभियान, संचार ब्लैकआउट में दी ढील


येरूसलम/गाजा, 29 अक्टूबर (हि.स.)। इजरायल ने गाजा स्थित हमास के सैकड़ों ठिकानों पर फाइटर जेट से हमले के बाद जमीनी अभियान भी शुरू कर दिया है। इसकी आधिकारिक जानकारी इजरायली सेना ने रविवार को दी। उधर इजराइली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने युद्ध का दूसरा चरण कहा है।

वहीं गाजा में दिनभर चले ब्लैकआउट के बाद टेलीफोन और इंटरनेट संचार आंशिक रूप से बहाल कर दिया गया। हालांकि ब्लैक आउट से बचाव अभियान बुरी तरह प्रभावित हुआ।

गाजा सिटी में रहने वाले एक लोक सेवक शाबान अहमद ने कहा, इजरायल ने हमें मिटाने के लिए दुनिया से अलग थलग कर दिया है, लेकिन हमने इजरायली सैनिकों को दक्षिण को खाली करने की चेतावनी के बावजूद रोक दिया है। अहमद ने कहा कि ब्लैकआउट के कारण उन्हें रविवार को ही पता चला कि शुक्रवार को हुए हवाई हमले में उनका चचेरा भाई मारा गया।

सेना ने कहा कि इजरायली रक्षा बल (आईडीएफ) के लड़ाकू विमानों ने गाजा पट्टी में हमास से संबंधित 450 से अधिक सैन्य ठिकानों पर हमला किया, जिनमें ऑपरेशनल कमांड सेंटर, अवलोकन पोस्ट और एंटी टैंक मिसाइल लॉन्च पोस्ट शामिल है।

सैन्य प्रवक्ता डैनियल हगारी ने एक ब्रीफिंग में कहा, हम गाजा पट्टी में जमीनी गतिविधि और अपनी सेना का दायरा बढ़ा रहे हैं। हम अपनी सेनाओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने और युद्ध के लक्ष्यों को हासिल करने के लिए हवा, समुद्र और ज़मीन से हरसंभव प्रयास करेंगे।

हमास आतंकियों ने 07 अक्टूबर को इजरायल की सीमा पार कर अचानक हमला कर 1,400 लोगों की हत्या और 200 से अधिक लोगों को बंधक बना लिया था। इस हमले के तीन सप्ताह तक इजराइल गाजा पर लगातार हवाई हमला कर रहा है।

गाजा पट्टी में चिकित्सा अधिकारियों ने रविवार को कहा कि ईरान समर्थित हमास आतंकवादियों को खत्म करने के इज़रायल के अभियान में 3,324 नाबालिगों सहित 8,005 फिलिस्तीनी मारे गए।

पश्चिमी देशों ने इज़रायल के आत्मरक्षा के अधिकार का समर्थन किया है। लेकिन बमबारी से मरने वालों की संख्या को लेकर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर आक्रोश बढ़ रहा है और गाजा नागरिकों तक मानवीय सहायता पहुंचाने के लिए की मांग की जा रही है।

नागरिक और आतंकवादी में अंतर करे इजरायल : व्हाइट हाउस

व्हाइट हाउस के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जेक सुलिवन ने बताया कि इजरायल को गाजा में फिलिस्तीनी नागरिकों और हमास आतंकवादियों के बीच अंतर करने के लिए हर संभव तरीके का उपयोग करना चाहिए। उन्होंने नेतन्याहू से कब्जे वाले वेस्ट बैंक में निर्दोष लोगों के खिलाफ चरमपंथी यहूदी निवासियों की हिंसा पर लगाम लगाने का भी आग्रह किया।

पोप फ्रांसिस ने रविवार को युद्धविराम के साथ सभी बंधकों की रिहाई के लिए अपने आह्वान को दोहराया। सुनक के कार्यालय ने कहा कि ब्रिटिश प्रधानमंत्री ऋषि सुनक और फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रॉन ने रविवार को गाजा में मानवीय सहायता के बारे में अपनी चिंता व्यक्त की।

हिन्दुस्थान समाचार/अजीत तिवारी/आकाश

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story