पाकिस्तान में आम चुनाव से पहले इमरान खान की पार्टी ने टाला पार्टी का संगठनात्मक चुनाव

- पीटीआई ने प्रशासन द्वारा उत्पन्न दुर्भाग्यपूर्ण सुरक्षा स्थिति को बताया जिम्मेदार

इस्लामाबाद, 3 फरवरी (हि.स.)। पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान की पार्टी ने ‘प्रशासन द्वारा उत्पन्न दुर्भाग्यपूर्ण सुरक्षा स्थिति’ और सदस्यों द्वारा उठाई गई चिंताओं का हवाला देते हुए आठ फरवरी के आम चुनाव से पहले अपने महत्वपूर्ण आंतरिक चुनाव कराने के अपने फैसले को शुक्रवार को टाल दिया।

ज्ञात रहे कि पार्टी प्रमुख व पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान जेल में बंद हैं।

देश के आम चुनाव में बमुश्किल एक हफ्ते का समय बचा है। 71 वर्षीय खान की पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) पार्टी ने पांच फरवरी को पार्टी का संगठनात्मक चुनाव कराने की बृहस्पतिवार को घोषणा की थी।

एक रिपोर्ट के अनुसार, पार्टी अध्यक्ष गौहर खान ने पूर्व प्रधानमंत्री के निर्देश पर संगठनात्मक चुनाव को स्थगित करने की घोषणा की और कहा कि संगठनात्मक चुनाव अगले सप्ताह के आम चुनाव से ध्यान भटका सकते हैं। जानकारी के मुताबिक, शुक्रवार को जारी एक अधिसूचना में पार्टी ने कहा कि उसका आंतरिक चुनाव अब आम चुनाव के बाद होगा। इसमें कहा गया कि ‘प्रशासन द्वारा उत्पन्न की गई दुर्भाग्यपूर्ण सुरक्षा स्थिति’ और सदस्यों द्वारा उठाई गई चिंताओं के कारण पार्टी का आंतरिक चुनाव पुनर्निर्धारित किया गया है। यह घोषणा ऐसे समय की गई जब सादे कपड़ों में पुलिस और सुरक्षा अधिकारियों ने कथित तौर पर बृहस्पतिवार को पार्टी के केंद्रीय सचिवालय पर छापा मारा और इसे अपने नियंत्रण में ले लिया तथा सदस्यों को परिसर में प्रवेश करने से रोक दिया।

इस बीच, जेल में बंद इमरान खान ने शुक्रवार को दावा किया कि अगर उन्होंने अमेरिकी ताकत को चुनौती नहीं दी होती, तो भविष्य में पाकिस्तान का कोई भी प्रधानमंत्री अपने आंतरिक मामलों में स्पष्ट विदेशी हस्तक्षेप का सामना करने की हिम्मत नहीं कर पाता। वर्तमान में रावलपिंडी की उच्च सुरक्षा वाली अदियाला जेल में बंद खान ने ‘एक्स’ पर यह बताने की कोशिश की कि आखिर उन्हें कई ‘‘मनगढ़ंत’’ मामलों में ‘दंडित’ क्यों किया गया। उन्होंने लोगों से ‘बदमाशों’ को उखाड़ फेंकने के लिए चुनाव में वोट के हथियार का उपयोग करने का भी आग्रह किया। खान को गोपनीय दस्तावेज उजागर करने और उपहारों को बेचने के मामलों में क्रमशः 10 और 14 साल की कैद की सजा सुनाई गई है। वह पिछले साल अगस्त से जेल में बंद हैं।

हिन्दुस्थान समाचार/ अजीत तिवारी/प्रभात

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story