Vastu Tips: घर का मंदिर रोजाना नहीं इस दिन करें साफ, होने लगेगी पैसों की बरसात!

m

हिंदू धर्म में प्रत्येक दिन का विशेष महत्व है। साप्ताह का हर दिन किसी न किसी देवी-देवता को समर्पित है, जिस दिन विशेषतौर पर भगवान की आराधना की जाती है। इसके अलावा धर्म में शुभ-अशुभ का भी बहुत महत्व है। शास्त्र के अनुसार, माना जाता है कि घर में या फिर मंदिर में कुछ विशेष चीजों को रखने से परिवार की सुख-समृद्धि पर असर पड़ता है। इसके अलावा पूजा-पाठ, मंदिर की साफ-सफाई करने का भी विशेष दिन और समय होता है, जिसमें कार्य करने से दोगुना फल मिलता है। साथ ही घर-परिवार में शांति बनी रहती है।

m

वास्तु शास्त्रों के अनुसार, पूजा घर यानी मंदिर की साफ-सफाई और उसके रखरखाव को लेकर भी नियम बनाए गए हैं। कहा जाता है कि जो लोग सख्ती से इन नियमों का पालन करते है उससे उसके घर में सुख, शांति और समृद्धि बनी रहती है। इसके अलावा व्यक्ति के जीवन में सफलता के भी नए रास्ते भी खुलते हैं। आइए जानते हैं कि किस-किस दिन मंदिर की साफ-सफाई करना शुभ होता है और किस दिन अशुभ।

m

किस दिन करें मंदिर की साफ-सफाई ?
वास्तु शास्त्र के अनुसार, शनिवार के दिन मंदिर की साफ-सफाई करना बहुत ज्यादा शुभ होता है। कहा जाता है कि जो लोग शनिवार के दिन पूजा घर की साफ-सफाई करते है, तो इससे उनके कष्ट दूर होते हैं। साथ ही वास्तु दोष से भी छुटकारा मिलता है। इसके अलावा व्यक्ति के जीवन में आने वाली सभी परेशानियां कम हो जाती है।

m

कैसे करें मंदिर की सफाई?
मंदिर की साफ-सफाई करने के लिए सबसे पहले मंदिर में मौजूद देवी-देवताओं की फोटो को गंगाजल से साफ करें। इसके बाद दीये को गीले कपड़े से साफ करें। मंदिर में से जली माचिस की तीलियां, बत्ती, फूल और आदि सामान, जिनकी जरूरत नहीं है उन्हें अलग कर लें और बाद में गंगा में या फिर किसी भी पवित्र नदी में उन्हें प्रवाह कर दें। मंदिर की अच्छे से साफ-सफाई करने के बाद अंत में पूरे मंदिर में गंगाजल का छिड़काव कर दें। इससे मंदिर शुद्ध हो जाएगा और सारी नकारात्मक ऊर्जा घर से चली जाएगी।

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story