Chaitra Navratri 2024: कल से शुरू हो रही चैत्र नवरात्रि? जानें तिथि और कलश स्थापना का मुहूर्त, देखें नवरात्र का पूरा कैलेंडर 

m

हिंदू धर्म में नवरात्रि का विशेष महत्व है। देशभर में इस पर्व को बहुत ही धूमधाम से मनाया जाता है। हिंदू पंचांग के अनुसार, साल में 4 बार नवरात्रि पड़ती हैं। जिसमें से 2 चैत्र और शारदीय नवरात्रि होती है और दो गुप्त नवरात्रि होती है जो गृहस्थ लोगों के लिए नहीं होती है। नवरात्रि के दौरान मां दुर्गा के नौ स्वरूपों की विधिवत पूजा करने के साथ व्रत रखने की विधान है। इसके साथ ही पूरे 9 दिनों तक घर में कलश स्थापना करने के साथ जौ बोए जाते हैं। हिंदू पंचांग के अनुसार, चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपता तिथि से चैत्र नवरात्रि आरंभ हो जाती है। जानें चैत्र नवरात्रि की तिथि, शुभ मुहूर्त और महत्व-

चैत्र नवरात्रि के दौरान मां दुर्गा के नौ स्वरूपों यानी – शैलपुत्री, ब्रह्मचारिणी, चंद्रघंटा, कुष्मांडा, स्कंदमाता, कात्यायनी, कालरात्रि, महागौरी और सिद्धिदात्रि की पूजा करने का विधान है।

m

कब है चैत्र नवरात्रि 2024?
चैत्र मास की प्रतिपदा तिथि आरंभ- 8 अप्रैल 2024 को रात 11 बजकर 50 मिनट से शुरू
चैत्र मास की प्रतिपदा तिथि समाप्त- 9 अप्रैल को रात 8 बजकर 30 मिनट पर
चैत्र नवरात्रि तिथि- 9 अप्रैल 2024

चैत्र नवरात्रि 2024 कलश स्थापना मुहूर्त
घटस्थापना मुहूर्त – सुबह 6 बजकर 11 मिनट से 10 बजकर 23 मिनट तक
अभिजीत मुहूर्त- 9 मार्च को दोपहर 12 बजकर 03 मिनट से 12 बजकर 54 मिनट तक

m

चैत्र नवरात्रि 2024 कैलैंडर
पहला चैत्र नवरात्रि - 09 अप्रैल 2024, मंगलवार- मां शैलपुत्री पूजा, घटस्थापना

दूसरा चैत्र नवरात्रि -10 अप्रैल 2024, बुधवार- मां ब्रह्मचारिणी पूजा

तीसरा चैत्र नवरात्रि -11 अप्रैल 2024, गुरुवार- मां चंद्रघंटा पूजा

चौथा चैत्र नवरात्रि -12 अप्रैल 2024, शुक्रवार- मां कुष्मांडा पूजा

पांचवां चैत्र नवरात्रि-13 अप्रैल 2024, शनिवार- मां स्कंदमाता पूजा

छठा चैत्र नवरात्रि- 14 अप्रैल 2024, रविवार- मां कात्यायनी पूजा

सातवां चैत्र नवरात्रि -15 अप्रैल 2024, सोमवार- मां कालरात्रि पूजा

आठवां चैत्र नवरात्रि -16 अप्रैल 2024, मंगलवार- मां महागौरी पूजा और दुर्गा महा अष्टमी पूजा

नौवां चैत्र नवरात्रि -17 अप्रैल 2024, बुधवार- मां सिद्धिदात्री पूजा, महा नवमी और रामनवमी

m

चैत्र नवरात्रि 2024 महत्व
इस साल चैत्र नवरात्रि काफी खास है, क्योंकि मां घोड़े में सवार होकर आने वाली है। इस साल चैत्र नवरात्रि मंगलवार के दिन से शुरू हो रहे हैं। घोड़े में आना सत्ता परिवर्तन का संकेत होता है। शास्त्रों के अनुसार माना जाता है कि नौ दिनों के इन नवरात्रि के दिन मां दुर्गा के नौ रूपों की विधिवत पूजा करने से व्यक्ति को हर एक कष्टों से निजात मिल जाती है और जीवन में सुख-सौभाग्य और समृद्धि की प्राप्ति होती है।

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story