Basant Panchami 2024: बसंत पंचमी पर क्यों लगाया जाता है पीला भोग और क्यों पहनते हैं पीले वस्त्र? जानिए

m

बसंत पंचमी” एक ऐसा त्योहार है जिस दिन बिना मुहूर्त के भी शादी हो सकती है। मान्यता है कि अगर किसी जोड़ों की शादी के लिए शुभ मुहूर्त न निकल पा रहा हो और वो जल्दी शादी करना चाहते हैं तो इस दिन यानी बसंत पंचमी को विवाह किया जा सकता है। इसके अलावा बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की पूजा-अर्चना करना भी शुभ माना जाता है। ये दिन खासतौर पर विद्या की देवी मां सरस्वती को समर्पित है। हिन्दू धर्म में मां सरस्वती को ज्ञान और कला की देवी कहा जाता है। इस बार 14 फरवरी 2024 को बसंत पंचमी मनाया जाएगा। इस दिन खासतौर पर ज्ञान की देवी मां सरस्वती की पूजा की जाती है। पढ़ने, लिखने, बोलने और नाचने गाने की कृपा के लिए भी मां सरस्वती को याद किया जाता है। मान्यता है कि इस दिन पीले रंग के कपड़े पहनना और सरस्वती मां को पीला भोग लगाना बहुत शुभ होता है, लेकिन ऐसा क्यों क्या आपने सोचा है? अगर नहीं, तो आइए आपके कुछ सवालों का जवाब देने के साथ ही बसंत पंचमी पर पीले रंग का क्या खास महत्व है?

m
बसंत पंचमी पर पीले रंग का महत्व?
बसंत पंचमी पर मां सरस्वती की पूजा आराधना की जाती है। इस दिन पीला कपड़ा पहनना चाहिए। इस दिन पीला कपड़ा पहनना बहुत शुभ माना जाता है। शास्त्रों के अनुसार पीले रंग को बहुत ही शुभ माना जाता है। ये रंग मांगलिक कार्यों में विशेष रूप से इस्तेमाल किया जाता है। शादी, विवाह, पूजा, पाठ आदि में पीले रंग का इस्तेमाल किया जाता है। धार्मिक ग्रंथो में पीला रंग विष्णु भगवान जी का बेहद प्रिय है और मां सरस्वती को भी पीला रंग बहुत ही प्रिय होता है। इस दिन मां सरस्वती को प्रसन्न करने के लिए पीला कपड़ा पहनना चाहिए। इससे मां सरस्वती बहुत प्रसन्न होती हैं और मां सरस्वती की कृपा अपने भक्तों पर सदैव रहती है।

n

पीले रंग का भोग
मां सरस्वती को पीले रंग के वस्त्र पहनाने के साथ ही आपको खुद भी इस दिन स्नान आदि करने के बाद पीले रंग के कपड़े पहनना चाहिए। आप विद्या की देवी मां सरस्वती को पीले रंग का भोग भी लगा सकते हैं। इससे मां सरस्वती बहुत प्रसन्न होती हैं और अपने भक्तों को ज्ञान प्रदान करती हैं।

n

पीला रंग का ज्यादा इस्तेमाल करने से सुख-समृद्धि में इजाफा होता है और तनाव में भी कमी आती है और दिमाग शांत रहता है इसलिए इसे वैज्ञानिक तौर पर खास माना गया है। इसके साथ ही पीले रंग के पहनने से आत्मविश्वास बढ़ता है और जीवन में खुशियों का मार्ग खोलता है। इस दिन से ठंड में कमी आने लगती है और हल्की हल्की गर्मी भी लगने लगती है। बसंत के मौसम में सरसों की फसल भी तैयार हो जाती है इसलिए धरती पर पीले ही पीले फूल नजर आने लगते हैं।

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story