खादी एवं ग्रामोद्योग का कारोबार पहली बार 1.55 लाख करोड़ रुपये के पार

खादी एवं ग्रामोद्योग का कारोबार पहली बार 1.55 लाख करोड़ रुपये के पार


-वित्त वर्ष 2023-24 के दौरान 10 लाख से अधिक रोजगार भी हुए हैं सृजित

नई दिल्‍ली, 09 जुलाई (हि.स.)। देश में खादी एवं ग्रामोद्योग आयोग (केवीआईसी) ने नया रिकॉर्ड बनाया है। केवीआईसी का सालाना कारोबार बीते वित्‍त वर्ष 2023-24 में पहली बार 1.55 लाख करोड़ रुपये के पार पहुंच गया। इस दौरान 10 लाख से अधिक रोजगार भी सृजित हुए हैं।

सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम (एमएसएमई) मंत्रालय ने मंगलवार को जारी एक बयान में कहा कि केवीआईसी ने उत्पादन, बिक्री एवं नए रोजगार सृजन में नये कीर्तिमान स्थापित किए हैं। केवीआईसी के चेयरमैन मनोज कुमार ने कहा कि स्वतंत्र भारत के इतिहास में पहली बार वित्‍त वर्ष 2023-24 में केवीआईसी उत्पादों की बिक्री 1.55 लाख करोड़ रुपये को पार कर गई है। इससे 10 लाख से अधिक नए रोजगार पैदा हुए है, जबकि वित्‍त वर्ष 2022-23 में केवीआईसी की बिक्री 1.34 लाख करोड़ रुपये रही थी।

उन्होंने कहा कि पिछले वित्‍त वर्ष के जारी अस्थायी आंकड़ों के मुताबिक बीते 10 वर्षों में उत्पादन 315 फीसदी जबकि खादी एवं ग्रामोद्योग उत्पादों की बिक्री में 400 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की गई है। उन्‍होंने कहा कि वित्त वर्ष 2013-14 के बाद के 10 वर्षों में खादी एवं ग्रामोद्योग गतिविधियों में नए रोजगार का सृजन भी 81 फीसदी बढ़ गया है। उन्‍होंने बताया कि वित्त वर्ष 2013-14 में खादी एवं ग्रामोद्योग आयोग की बिक्री 31,154.2 करोड़ रुपये रही थी, जो वित्‍त वर्ष 2023-24 में 1,55,673.12 करोड़ रुपये पर पहुंच गई है।

केवीआईसी चेयरमैन ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में वित्‍त वर्ष 2023-24 में हमारी कोशिशों से ग्रामीण क्षेत्रों में 10.17 लाख नए रोजगार पैदा हुए हैं, जिसने ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूती देने का काम किया। उन्होंने कहा कि ग्रामीण कारीगरों के बनाए उत्पादों की मांग बाजार में तेजी से बढ़ रही है। इसका असर उत्पादन, बिक्री एवं रोजगार आंकड़ों पर भी नजर आ रहा है।

समरससमरससमरस

हिन्दुस्थान समाचार / प्रजेश शंकर / दधिबल यादव

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story