गुरुग्राम में रियल्टी डेवलपर अच्छी शर्तों पर दे रहे प्री-लीज दुकान

गुरुग्राम में रियल्टी डेवलपर अच्छी शर्तों पर दे रहे प्री-लीज दुकानगुरुग्राम, 15 मई (आईएएनएस)। रियल्टी डेवलपर, एम3एम इंडिया, गुरुग्राम में लगातार अपने व्यवसाय को बढ़ा रहा है। कंपनी ने पहले ही पिछले दशक में 40 लाख वर्ग फुट डेवलप किया है, शायद, भारत में सबसे ज्यादा। कुल मिलाकर, इसने 40 परियोजनाओं को डिलीवर किया है जिसमें 2 करोड़ वर्ग फुट है और जिसमें लक्जरी आवासीय परियोजनाएं शामिल हैं।

अपने खुदरा व्यवसाय को और अधिक बढ़ावा देने के लिए, एम3एम इंडिया ने अब सीमित अवधि के लिए अपने पहले रियल एस्टेट इन्वेस्टमेंट प्रीमियम लीग की शुरुआत की है, जहां खरीदार कुल राशि का केवल 50 प्रतिशत भुगतान कर प्री-लीज की दुकान के मालिक बन सकते हैं। इस ऑफर के तहत शेष राशि का भुगतान 18 महीने के बाद किया जा सकता हैं।

एम3एम अपने खरीदारों को पहले दिन से ही रेंट कमाने के प्रावधान के साथ 12 साल की लीज के साथ जगह देगा।

यह सीमित अवधि का कैंपेन गुरुग्राम के बेहतरीन रिटेल पोर्टफोलियो में से एक है, जिसमें एम3एम 65वां एवेन्यू, एम3एम आईएफसी, एम3एम अर्बाना प्रीमियम, एम3एम ब्रॉडवे, एम3एम प्राइव 73 और एम3एम कॉर्नर वॉक शामिल है, जो कि गोल्फ कोर्स रोड (एक्सटेंशन) और दक्षिणी पेरिफेरल रोड (एसपीआर) जैसी प्राइम लोकेशन पर है।

एम3एम 65वें एवेन्यू को फैशन, फूड, एंटरटेनमेंट आदि के लिए समर्पित 1046 यूनिट्स के साथ बेहतरीन तरीके से डिजाइन किया गया है। यह गुरुग्राम में सबसे बड़ी शानदार खुदरा परियोजना (रिटेल प्रोजेक्ट) है, जो 10 लाख वर्ग फुट के रिटेल स्पेस के साथ 14 एकड़ में फैली हुई है। हाल ही में एम3एम ने 65वें एवेन्यू में 8-स्क्रीन मल्टीप्लेक्स स्थापित करने के लिए पीवीआर के साथ समझौता किया है। सहज कनेक्टिविटी के कारण बहुराष्ट्रीय कंपनियों, एचएनआई द्वारा कैचमेंट एरिया को प्राथमिकता दी जाती है।

दूसरी ओर, एम3एम ब्रॉडवे (2226 यूनिट्स), एम3एम प्राइव 73 (302 यूनिट्स) और एम3एम कॉर्नर वॉक (1338 यूनिट्स) सहित एसपीआर प्रोजेक्ट्स अत्याधुनिक हैं, जिनकी अवधारणा एक सुनियोजित लैंडस्केप डिजाइन से मेल खाती है।

एम3एम ने पहले ही डीटीडीसी, बीकानेरवाला, रिलायंस ट्रेंड्स, आईसीआईसीआई बैंक, केएफसी, सबवे, केवेंटर्स, बरिस्ता, पिज्जा हट, आईनॉक्स, एक्सिस बैंक और बारबीक्यू-नेशन के साथ साझेदारी की है।

खुदरा मांग हमेशा से ही रही है, खासकर जब रियल-एस्टेट डेवलपर्स बड़ी मिश्रित परियोजनाओं को बना रहे हैं, जो निवासियों की बुनियादी आवश्यकताओं पर ध्यान केंद्रित करते हैं। ऐसी मिश्रित परियोजनाओं में, संगठित खुदरा दुकानों में फुटफॉल ज्यादा होता है जिससे लाभ कमाने का अवसर ज्यादा मिलता है।

--आईएएनएस

एचके/एसकेपी

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये  यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये  यहां क्लिक करें।

Share this story